बीटीसी करने के फायदे: बीटीसी क्या होता है, योग्यता और फीस?

इस लेख की रूपरेखा:

बीटीसी एक शिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रम है जो की व्यक्तियों को प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक बनने के लिए तैयार करता है। बीटीसी का कोर्स आज एक सबसे अधिक मांग वाला कोर्स है अगर आप भी शिक्षा के क्षेत्र में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं तो यह कोर्स आपके लिए उपयोगी साबित हो सकता है। अगर आप बीटीसी के कोर्स को करने के बाद शिक्षक बनना चाहते हैं तो आपको बीटीसी कोर्स के बारे में संपूर्ण जानकारी होना आवश्यक है।

अगर आप भी शिक्षक के रूप में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं तो यह लेख आपके लिए ही है। इस लेख में हम आपको बीटीसी करने के फायदे, बीटीसी करने के लिए योग्यता, बीटीसी करने की फीस और बीटीसी के कोर्स को करने के बाद मिलने वाली सैलरी आदि के बारे में जानकारी उपलब्ध करवाई है। बीटीसी करने के फायदे के बारे में जानने के लिए इस लेख के अंत तक बन रहे तो चलिए शुरू करते हैं…

बीटीसी क्या होता है | What is BTC

बीटीसी एक छोटी अवधि का डिप्लोमा कोर्स होता है जो कि भारत सरकार द्वारा संचालित किया जाता है तथा इस कोर्स को करने के बाद आप सरकारी विद्यालय में उच्च प्राथमिक कक्षा तक शिक्षक की नौकरी प्राप्त कर सकते हैं।

इस कोर्स में आपको छोटे बच्चों को पढ़ाने तथा उनके साथ कैसे बर्ताव किया जाता है इनके बारे में जानकारी उपलब्ध करवाई जाती है।

अगर आप बीटीसी का कोर्स कर लेते हैं तो इसके बाद आप सरकारी विद्यालयों के शिक्षक के साथ-साथ प्राइवेट विद्यालयों के शिक्षक के रूप में भी रोजगार के अवसर प्राप्त कर सकते हैं।

बीटीसी की फुल फॉर्म क्या होता है | BTC Full Form

बीटीसी का पूरा नाम बेसिक ट्रेनिंग सर्टिफिकेट होता है जिसे हिंदी में साधारण शिक्षण पाठ्यक्रम के नाम से जानते हैं। इस कोर्स को करने के बाद आप एक से लेकर आठवीं कक्षा तक के शिक्षक बनने के लिए योग्य हो जाते हैं। इस कोर्स के माध्यम से आपके छोटे बच्चों को पढ़ाने के लिए ट्रेनिंग दी जाती है।

बीटीसी करने के फायदे | BTC Karne Ke Fayde

बीटीसी के कोर्स को करने से पहले आपको इस कोर्स को करने से होने वाले फायदों के बारे में जानकारी होना आवश्यक है। यहां हम आपको बीटीसी के कोर्स को करने से होने वाले फायदे के बारे में बताने जा रहे हैं…

  • बीटीसी के कोर्स को करने के बाद आप शिक्षक बनने के लिए योग्य हो जाते हैं इसके बाद आप किसी भी सरकारी या निजी विद्यालय में शिक्षक पद के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • बीटीसी का कोर्स करने के बाद आप अपना स्वयं का शिक्षण व्यवसाय शुरू कर सकते हैं।
  • बीटीसी का कोर्स करने के बाद आप एक से आठ में कक्षा तक के बच्चों को पढ़ने में महारत हासिल कर सकते हैं।
  • बीटीसी के कोर्स को करने के बाद आप अन्य छात्र या छात्राओं को इस कोर्स के बारे में जानकारी दे सकते हैं।
इसको भी पढ़े-   BCA Karne Ke Fayde: बीसीए की योग्यता, फीस, नौकरी और सैलरी?

बीटीसी कोर्स के लिए योग्यता। BTC Karne Ke Liye Qualification?

बीटीसी के कोर्स को करने के लिए कुछ योग्यताओं की आवश्यकता होती है इसके बाद ही आप इस कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं इस कोर्स के लिए जरूरी योग्यताओं का विवरण निम्न प्रकार है…

  • बीटीसी के कोर्स को करने के लिए आपके पास भारत की नागरिकता होना अनिवार्य है।
  • आप इस कोर्स को दो तरीके से कर सकते हैं। आप 12वीं कक्षा की परीक्षा के बाद इस कोर्स में दाखिला ले सकते हैं और ग्रेजुएट की डिग्री करने के बाद भी आप इस कोर्स में एडमिशन ले सकते है।
  • 12वीं कक्षा के बाद अगर बीटीसी का कोर्स करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से कक्षा 12 की परीक्षा न्यूनतम 50% अंकों के साथ उत्तीर्ण करनी अनिवार्य है।
  • अगर आप ग्रेजुएट की डिग्री के बाद इस पाठ्यक्रम में एडमिशन लेना चाहते हैं तो इसके लिए आपको किसी भी मान्यता प्राप्त महाविद्यालय से न्यूनतम 55% अंकों के साथ अपनी ग्रेजुएट की डिग्री करनी अनिवार्य है।
  • बीटीसी के कोर्स को करने के लिए आपके अंदर समस्या के समाधान तथा बातचीत करने का एक प्रभावी तरीका होना चाहिए।
  • इस कोर्स के लिए किसी भी प्रकार की आयु सीमा का निर्धारण नहीं किया गया है।

बीटीसी कोर्स में कितने विषय होते हैं?

बीटीसी के कोर्स के लिए एक खास तरह का पाठ्यक्रम तैयार किया गया है उसी के अनुरूप ही इस कोर्स में आपको जानकारी उपलब्ध करवाई जाती है इस कोर्स में आपको शिक्षक के सिद्धांत, बाल विकास, शारीरिक शिक्षा और संगीत नैतिकता पर आधारित शिक्षा, कक्षा शिक्षण के साथ-साथ शिक्षा पद्धति के बारे में अध्ययन करवाया जाता है।

इस विशेष पाठ्यक्रम में छात्रों के उन्नत अध्ययन के लिए कक्षा सिद्धांतों को व्यवहारिक क्षेत्र से जोड़ा जाता है। इस विशेष पाठ्यक्रम में आप निम्न विषयों के बारे में जानकारी ग्रहण करते हैं

  • शिक्षा और शिक्षण सिद्धांत
  • उर्दू/संस्कृत और इंगलिश
  • कक्षा अध्ययन
  • कंप्यूटर एजुकेशन
  • स्टडी गाइडलाइन ऑफ स्पेशल स्टूडेंट
  • स्टडी एवेलुशन
  • आर्ट और म्यूजिक
  • हेल्थ एजुकेशन

बीटीसी कितने साल का कोर्स होता है?

बीटीसी शिक्षक बनने के लिए एक विशेष रूप का पाठ्यक्रम होता है। इस कोर्स को 2 साल में किया जा सकता है इस पूरे कोर्स को चार सेमेस्टर भाग में बांटा गया है। इस कोर्स में आपके पास प्रत्येक वर्ष 2 सेमेस्टर होंगे।

बीटीसी कोर्स में ऐडमिशन कैसे लें?

आप बीटीसी की कोर्स के लिए इसमें दो तरह से एडमिशन प्राप्त कर सकते हैं इसमें मेरिट के आधार पर तथा प्रवेश परीक्षा के आधार पर एडमिशन दिया जाता है। जबकि कुछ कॉलेजों में आपकी योग्यता डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन और प्रवेश परीक्षा के आधार पर एडमिशन दिया जाता है। बीटीसी के लिए एडमिशन की प्रक्रियाओ का विवरण निम्न निम्न प्रकार है

मेरिट के आधार पर

भारत के कुछ कॉलेजों में बीटीसी के कोर्स हेतु 12वीं के अंकों के आधार पर ही एडमिशन दे दिया जाता है जिन विद्यार्थियों के कक्षा 12 में अधिक अंक होते हैं उन्हें सीधा ही प्रवेश मिल जाता है।

प्रवेश परीक्षा के आधार पर

भारत के सरकारी कॉलेज में एडमिशन लेने के लिए आपको सबसे पहले प्रवेश परीक्षा देनी होती है उसी के अंकों के आधार पर आपको प्रवेश दिया जाता है। इसके लिए कुछ मुख्य प्रवेश परीक्षाएं निम्न प्रकार है…

  • बीएचयू सीईटी
  • इग्नू प्रवेश परीक्षा
इसको भी पढ़े-   बैचलर डिग्री क्या है: बैचलर डिग्री के बारे में सबकुछ जाने

बीटीसी के लिए भारत के शीर्ष कॉलेज

भारत में ऐसे बहुत से कॉलेज एवं महाविद्यालय है जहां बीटीसी का कोर्स करवाया जाता है। जिनमे से प्रमुख कॉलेजो की सूची निम्न प्रकार है…

  • बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय (बीएचयू), वाराणसी
  • महात्मा गांधी विश्व विद्यालय, केरल
  • गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्व विद्यालय, नई दिल्ली
  • एसएनडीटी महिला विश्वविधालय, मुंबई
  • अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू), अलीगढ़
  • कलकता विश्व विद्यालय, कोलकाता

बीटीसी की फीस कितनी होती है?

बीटीसी का कोर्स सरकारी और निजी दोनों क्षेत्रों के विश्वविद्यालय द्वारा करवाया जाता है अगर आपका चयन सरकारी विश्वविद्यालय में हो जाता है तो इस कोर्स के लिए आपको 3 हजार रुपए प्रति सेमेस्टर की फीस का भुगतान करना होगा।

अगर आप किसी निजी कॉलेज से बीटीसी का कोर्स करते हैं तो इसके लिए आपको ₹25000 प्रति सेमेस्टर तक की फीस का भुगतान करना हो सकता है। बीटीसी के कोर्स की फीस अलग-अलग कॉलेज द्वारा उपलब्ध करवाई जाने वाले सुविधा के अनुसार अलग-अलग हो सकती है।

बीटीसी के बाद क्या करे?

बीटीसी का कोर्स करने के बाद आप शिक्षक बनने के योग्य हो जाते हैं। इसके बाद आप एक शिक्षक के रूप में अपने करियर को आगे बढ़ा सकते हैं। इसके अलावा नीचे बताए गए अन्य रोजगार के साधन भी अपना सकते है…

सरकारी नौकरी: आप बीटीसी के कोर्स को करने के बाद सरकारी शिक्षक के पद के लिए आवेदन कर सकते हैं इसके लिए आपको बीटीसी के कोर्स के बाद cuet के पेपर को पास करना होगा।

निजी क्षेत्र में नौकरी: बीटीसी के कोर्स के बाद आप  निजी क्षेत्र में शिक्षक पद के लिए आवेदन कर सकते हैं क्योंकि भारत में से बहुत से निजी क्षेत्र के विद्यालय है जिनमें इस कोर्स से जुड़े शिक्षकों की आवश्यकता है।

शिक्षण संस्थान: आप बीटीसी का कोर्स करने के बाद स्वयं का एक शिक्षण संस्थान खोल सकते हैं और वहां विद्यार्थियों को बीटीसी कोर्स के बारे में जानकारी उपलब्ध करवा सकते हैं या इसकी कोचिंग दे सकते हैं।

बीटीसी का कोर्स करने के बाद आप ऑनलाइन शिक्षण में भी कार्य कर सकते हैं आप जानते ही हैं कि शिक्षा के क्षेत्र में अनंत स्कोप उपलब्ध है जिनका आप अच्छी तरह से फायदा उठा सकते हैं।

बीटीसी करने के बाद सैलरी

बीटीसी के कोर्स को करने के बाद आप अलग-अलग क्षेत्र में और अपनी क्षमता के अनुसार सैलरी प्राप्त कर सकते हैं लेकिन इस कोर्स को करने के बाद मिलने वाली औसतन सैलरी की जानकारी नीचे बताई गई है।

नौकरी का नामसैलरी
शिक्षक (निजी विद्यालय में)2-4 लाख रुपए
शिक्षक (सरकारी विद्यालय में)2-5 लाख रुपए तक
आनलाइन शिक्षण3-6 लाख रुपए
करियर काउंसलर2-3 लाख रुपए तक

निष्कर्ष

अगर आप भविष्य में शिक्षक बनना चाहते हैं तो बीटीसी का कोर्स आपके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण हो सकता है। इस कोर्स को करने के बाद आप सरकारी विद्यालय के साथ निजी विद्यालय में भी नौकरी के अवसर प्राप्त कर सकते हैं। आज के इस लेख में हमने आपको बीटीसी करने के फायदे तथा इस कोर्स के बारे में जानकारी उपलब्ध करवाई है। आशा करते हैं कि यह आपके लिए महत्वपूर्ण साबित हुई है।

अगर आपका कोई दोस्त या रिश्तेदार भी इस कोर्स को करना चाहते हैं तो उन्हें यह लिखे अवश्य रूप से शेयर करें और उन्हें बताएं कि बीटीसी करने से क्या फायदा हो सकता है और इस कोर्स को किस प्रकार किया जा सकता है।

इसको भी पढ़े-   कैट एग्जाम के लिए योग्यता: CAT Exam Eligibility in Hindi

बीटीसी करने के फायदे के बारे में महवपूर्ण प्रश्न?

बीटीसी का कोर्स कितने साल का होता है?

बीटीसी के कोर्स की समय अवधि 2 साल की होती है और इसे सेमेस्टर रूप में बांटा गया है जिससे बीटीसी कोर्स में कुल 4 सेमेस्टर उपलब्ध है।

बीटीसी के लिए न्यूनतम योग्यता क्या है?

बीटीसी के कोर्स को करने के लिए आपको किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से कक्षा 12वीं की परीक्षा न्यूनतम 50% अंकों के साथ पास करना अनिवार्य है।

बीटीसी के बाद कितनी सैलरी मिलती है?

इस कोर्स को करने के बाद आप अलग-अलग क्षेत्र के आधार पर तथा अपने अनुभव के आधार पर 2 लाख रुपए से लेकर ₹6 लाख रुपए प्रति साल तक की इनकम प्राप्त कर सकते हैं।

मेरा नाम सद्दाम हुसैन है और मैं इस ब्लॉग का फाउंडर और कंटेंट राइटर हूँ। इस ब्लॉग पर मैं एजुकेशन, सरकारी नौकरी, जॉब, कैरियर, बिजनेस, कोर्सेज और सेलेबस से रिलेटेड हर नई और महत्वपूर्ण लेख को रेगुलर बेसिक पर प्रकाशित करता रहता हूँ।

2 thoughts on “बीटीसी करने के फायदे: बीटीसी क्या होता है, योग्यता और फीस?”

Leave a Comment

error: Content is protected !!