CFA Course Details in Hindi: CFA क्या होता है? पूरी जानकारी

इस लेख की रूपरेखा:

यदि आप वित्तीय क्षेत्र में अपना एक बेहतरीन कैरियर बनाना चाहते हैं तो चार्टर्ड फाइनेंशियल एनालिस्ट (CFA) कोर्स आपके लिए एक बेहतरीन विकल्प हो सकता है। CFA एक विश्वस्तरीय कोर्स है।

इस लेख में हम आपको CFA Course Details in Hindi के बारे में हर एक महत्वपूर्ण चीज़ को साझा करेंगे। इस पूरे लेख को पढ़ने के बाद आपको CFA Course के बारे में काफी अच्छी जानकारी हो जायेगी।

CFA क्या होता है? | What is CFA in Hindi

CFA क्या होता है

CFA का मतलब है “चार्टर्ड फाइनेंशियल एनालिस्ट” होता है। CFA एक विश्व स्तर पर मान्यता प्राप्त कोर्स है। जिसको आप ग्रेजुएशन के बाद कर सकते है। CFA विश्वभर में अपनी गुणवत्ता के लिए प्रसिद्ध है।

CFA कोर्स उन विद्यार्थियों के लिए बेहतरीन विकल्प है जो इन्वेस्टमेंट बैंकिंग और इक्विटी रिसर्च जैसे वित्तीय सेक्टर में करियर बनाना चाहते है।

CFA कोर्स को अमेरिकन संस्थान द्वारा संचालित किया जाता है। भारत मे कई सारे कॉलेज और संस्थान है जहाँ से आप CFA कोर्स करके इसका प्रमाणपत्र ले सकते है।

CFA कोर्स को 3 लेवल में बाँटा गया है। लेवल 1, लेवल 2 और लेवल 3। हर एक लेवल को पास करने के लिए विद्यार्थियों को उच्च कोटि की परीक्षाएं देनी होती हैं। यह परीक्षाएं विद्यार्थियों की नॉलेज, क्रियाकलाप, और विश्लेषण को मापती हैं।

CFA कोर्स में विद्यार्थियों को मुख्य रूप से निवेश विश्लेषण, पोर्टफोलियो प्रबंधन, और वित्तीय योजना के बारे में उच्च कोटि की शिक्षा प्रदान की जाती है।

एक बार जब आप CFA कोर्स के एग्जाम में उत्तीर्ण हो जाते हैं उसके बाद आप CFA इंस्टीट्यूट के सदस्य बन सकते हैं। CFA इंस्टीट्यूट विद्यार्थियों को वित्तीय उच्चस्तरीय पेशेवरों के साथ नेटवर्किंग करने के लिए मौके देती है।

CFA कोर्स क्यों करना चाहिये?

CFA कोर्स क्यों करना चाहिये

CFA कोर्स करने के कई सारे कारण है। इसके कुछ महत्वपूर्ण कारणों को हम यहाँ शेयर कर रहे है। इनको जानने के बाद आपको एक आईडिया लग जायेगा कि आपको CFA कोर्स क्यों करना चाहिए।

  • CFA एक विश्वस्तरीय मान्यता प्राप्त कोर्स होता है। इस कोर्स को करने के बाद आप अपना उच्च कोटि का करियर भारत के साथ विदेशो में भी बना सकते है।
  • CFA कोर्स आपको फाइनेंसियल एनालिसिस, इन्वेस्टमेंट मैनेजमेंट, पोर्टफोलियो मैनेजमेंट और फाइनेंसियल चैलेंजेज के बारे में उच्च स्तरीय विस्तृत ज्ञान प्रदान करता है।
  • CFA कोर्स करने के बाद आपको वित्तीय क्षेत्र में रोजगार के कई सारे मौके मिलते है। आप CFA कोर्स की मदद से एक उच्च कोटि की हाई सैलरी वाला जॉब पा सकते है।
  • CFA की मदद से आप अपनी गुणवत्ता को माप सकते है। क्योंकि यहाँ प्रवेश लेने के लिए आपको एक उच्च स्तरीय परीक्षा देना पड़ता है। इस उच्च स्तरीय परीक्षा के माध्यम से आप अपनी वित्तीय ज्ञान, कौशल, और निपुणता को जांच सकते है।
  • CFA कोर्स करने के बाद आपको वित्तीय सेक्टर में आपसे अधिक समझदार व्यक्तियों के साथ नेटवर्किंग का मौका मिलता है। यह नेटवर्किंग आपके करियर को आगे ले जाने में काफी मदद करता है।
इसको भी पढ़े-   DCA Karne Ke Fayde: डीसीए कोर्स क्या होता है? पूरी जानकारी

CFA का Full Form क्या होता है? | CFA Full Form in Hindi

CFA का Full Form “Chartered Financial Analyst” होता है। जिसको हिंदी में हम अधिकृत वित्तीय विश्लेषण कहते हैं। CFA का कोर्स CFA Institute के द्वारा करवाता जाता है। इसका हेडक्वार्टर अमरीका में है। CFA कोर्स को पूरा करने के बाद विद्यार्थी CFA Institute के सदस्य बन जाते है।

CFA कोर्स कितने साल का होता है? | CFA Course Duration

CFA कोर्स 3 लेवल में होता है। इन 3 लेवल को पूरा करने में आम तौर पर लगभग 3 से 4 साल का समय लगता है। इस तरह से कह सकते हैं कि CFA कोर्स की न्यूनतम अवधि 3 साल होता है। जबकि इसकी अधिकतम अवधि 4 साल तक हो सकती है।

CFA कोर्स के लिए आयु सीमा क्या है?

ऊपर हमने आपको पहले ही बताया है कि CFA कोर्स 3 लेवल में होता है। पहले लेवल में आवेदन करने के लिए कोई आयु सीमा नही होती है। पहला लेवल पास करने के बाद आप दूसरे लेवल में भाग ले सकते है। जब आप दूसरे लेवल को पास कर लेगें उसके बाद ही आप तीसरे लेवल में भाग ले सकते है। CFA कोर्स के लिए कोई भी आयु सीमा नहीं होती है! किसी भी उम्र के लोग यह बेहतरीन कोर्स कर सकते हैं!

CFA कोर्स के लिए योग्यता? | CFA Course Eligibility in Hindi

CFA कोर्स में एडमिशन लेने के लिए छात्रों को कुछ योग्यता की जरूरत होती है। निम्नलिखित मानदंडों को पूरा करने वाले छात्रों को ही CFA कोर्स में प्रवेश मिल सकता है।

  • CFA कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आवेदक के पास किसी भी विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री होनी चाहिए।
  • CFA कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आवेदक के पास 4 वर्ष का रिलेवेंट कार्य का अनुभव होना चाहिए
  • CFA कोर्स करने के लिए उम्र की कोई भी सीमा नही होती है। किसी भी उम्र के विद्यार्थी यह कोर्स कर सकते है।
  • CFA कोर्स करने के लिए विद्यार्थी को समकालीन निवेश व्यवसाय के बारे में अच्छी समझ होनी चाहिए।

CFA कोर्स की फीस कितनी है | CFA Course Fees

CFA कोर्स की फीस कितनी है

CFA कोर्स की फीस हर लेवल के अनुसार अलग अलग हो सकती है। किसी भी कोर्स की फीस कई सारी चीज़ों पर निर्भर करती है जैसे कि आपके रहने के स्थान, पंजीकरण की तिथि, और एग्जाम का स्तर पर उनमे से मुख्य है।

भारत मे CFA कोर्स के लेवल 1 की औसत फीस ₹ 190,000- ₹5,86,000 तक हो सकती है। लेवल 2 और लेवल 3 की औसत फीस इससे थोड़ा बहुत ज्यादा हो सकती है।

इन फीस के अलावा विद्यार्थियों के और भी कई तरह के खर्चे होते हैं। जैसे बुक्स, एग्जाम रजिस्ट्रेशन शुल्क, रूम रेंट, खाने का सामान और अन्य संबंधित खर्च उनमे से मुख्य है।

CFA Course Syllabus in Hindi | सीएफए कोर्स का सिलेबस?

CFA Syllabus in Hindi

CFA कोर्स की परीक्षा का तीन लेवल होता है। हर एक लेवल में अलग अलग विषयों के बारे में पढ़ाया जाता हैं। यहाँ हम आपको हर लेवल में कौन कौन से विषय को पढ़ाया जाता है उसके बारे में ज्ञान देने जा रहे है।

CFA Level 1 Syllabus

  • नैतिक और व्यावसायिक मानक
  • मात्रात्मक विधियां
  • अर्थशास्त्र
  • वित्तीय रिपोर्टिंग और विश्लेषण
  • कंपनी वित्त
  • इक्विटी निवेश
  • निश्चित आय
  • संजात
  • वैकल्पिक निवेश
  • पोर्टफोलियो प्रबंधन और धन योजना

CFA Level 2 Syllabus

  • नैतिक और व्यावसायिक मानक
  • मात्रात्मक विधियां
  • अर्थशास्त्र
  • वित्तीय रिपोर्टिंग और विश्लेषण
  • कंपनी वित्त
  • इक्विटी निवेश
  • निश्चित आय
  • संजात
  • वैकल्पिक निवेश
  • पोर्टफोलियो प्रबंधन और धन योजना
इसको भी पढ़े-   BSMS Course Details in Hindi: BSMS क्या होता है? सब कुछ जाने

CFA Level 3 Syllabus

  • नैतिक और व्यावसायिक मानक
  • व्यवहार वित्त
  • निजी धन प्रबंधन
  • संस्थागत निवेशकों के लिए पोर्टफोलियो प्रबंधन
  • जोखिम प्रबंधन और परिसंपत्ति आवंटन
  • निश्चित आय पोर्टफोलियो प्रबंधन
  • इक्विटी पोर्टफोलियो प्रबंधन
  • वैकल्पिक निवेश पोर्टफोलियो प्रबंधन
  • डेरिवेटिव पोर्टफोलियो प्रबंधन
  • निष्पादन, निगरानी और पुनर्संतुलन

सीएफए परीक्षा पैटर्न | CFA Exam Pattern in Hindi:

सीएफए परीक्षा पैटर्न

CFA का एग्जाम एक उच्च कोटि का एग्जाम होता है। इसके एग्जाम में बहुविकल्पीय प्रश्न, आइटम सेट और निबंध पूछे जाते है। CFA का एग्जाम हिंदी भाषा में नही होता है बल्कि इसका एग्जाम इंग्लिश भाषा मे होता है।

CFA का एग्जाम दो भागो में करवाया जाता है। हर एक भाग 3-3 घंटे का होता है। एग्जाम पैटर्न के बारे में नीचे विस्तार से बताया गया है।

लेवल परीक्षा प्रारूपप्रश्नों की संख्यापरीक्षा की अवधि
1बहुविकल्पीय प्रश्न1806 घंटे (दो 3 घंटे के सत्र में विभाजित)
2आइटम सेट120(20 Item set)6 घंटे (दो 3 घंटे के सत्र में विभाजित)
3निबंध प्रश्न और आइटम सेट8 से 12 निबंधात्मक प्रश्न और 10 आइटम सेट6 घंटे (दो 3 घंटे के सत्र में विभाजित)

CFA परीक्षा की तैयारी कैसे करें?

CFA परीक्षा को पास करने के लिए आपको इसकी अच्छे से तैयारी करना होगा। यहां हम आपके साथ कुछ महत्वपूर्ण बिंदु को शेयर कर रहे है। आप इन सभी बिंदुओं को ध्यान में रखकर CFA परीक्षा को पास कर सकते है।

  • CFA एग्जाम को पास करने के लिए आपको इसके पाठ्यक्रम को अच्छे से समझना होगा। आप इसके पाठ्यक्रम हर एक सब्जेक्ट बहुत ध्यान से पढ़े और महत्वपूर्ण बातों का एक बढ़िया से नोट्स बनाएं।
  • CFA एग्जाम के पिछले साल पूछे गए सवालों का अच्छे से अध्ययन करें और उसके पेपर पैटर्न को समझे। इसके साथ साथ इस बात का भी ध्यान दे कि ज्यादातर प्रश्न किस चैप्टर से आ रहे है।
  • पढ़ाई करते समय ब्रेक लेना ना भूले। कभी भी आपको लगातार पढ़ाई नही करना चाहिए। 1-2 घंटा पढ़ाई करने के बाद 10 मिनट का ब्रेक लेना चाहिए।
  • नियमित रूप से ज्यादा से ज्यादा मॉक टेस्ट का अभ्यास करें। मॉक टेस्ट के माध्यम से आपकी तैयारी का पता चलेगा। इसके अलावा मॉक टेस्ट आपके टाइम मैनेजमेंट को भी सुधारने में मदद करेगा।
  • CFA एग्जाम की तैयारी के समय सही खानपान का पूरा ध्यान रखें। सुबह सुबह टहले और नियमित व्यायाम करें। यह चीज़े आपके माइंड को स्थिर रखती है जिससे आपका फोकस अच्छा रहता है।

CFA कोर्स करने के कुछ बेहतरीन फायदे? | CFA Karne Ke Fayde

CFA Karne Ke Fayde कई सारे हैं। इसके कुछ जरूरी फायदे को यहाँ हम शेयर कर रहे है। उन फायदे को जानने के बाद आपका भी मन CFA कोर्स करने का हो जायेगा।

  • CFA कोर्स की मान्यता पूरी दुनिया मे होती है। यह कोर्स करने से आपको विश्वस्तरीय पहचान मिलता है। इनके अलावा आपको उच्च कोटि की हाई सैलरी वाली जॉब भी मिलती है।
  • CFA कोर्स में आपको निवेश विश्लेषण, पोर्टफोलियो प्रबंधन, और वित्तीय योजना जैसी चीज़ों के बारे में उच्च कोटि का विस्तृत ज्ञान प्रदान होता है। यह भी एक बढ़िया CFA Karne Ke Fayde हैं
  • CFA कोर्स करने के बाद आपको वित्तीय क्षेत्र उच्च कोटि के हाई सैलरी वाले जॉब मिलते है। CFA कोर्स के माध्यम से आप अपना एक बेहतरीन करियर बना सकते हैं।
  • CFA कोर्स के बाद आपका वित्तीय सेक्टर में काफी अच्छा नेटवर्किंग हो जाता है। इसमे आपको समझदार व्यक्तियों के साथ काम करने का मौका मिलता है। यह आपके करियर को आगे ले जाने में काफी मदद करता है। यह भी एक बढ़िया CFA Karne Ke Fayde हैं
  • CFA कोर्स करने के बाद आपके अंदर निर्णय लेने की छमता बढ़ जाती है। एक तरह से कह सकते हैं कि CFA कोर्स आपके व्यक्तिगत विकास में काफी मदद करता है।
  • CFA कोर्स करने के बाद आपको वित्तीय सेक्टर में उच्च वेतन वाले जॉब मिलने की संभावना बढ़ जाती है। जो आपकी वित्तीय स्तिथी के लिए काफी बढ़िया है।
इसको भी पढ़े-   GNM Kya Hota Hai: योग्यता, फीस, सिलेबस, बेस्ट कॉलेज और सैलरी

CFA कोर्स के लिए के बेस्ट कॉलेज?

CFA कोर्स के लिए के बेस्ट कॉलेज

वैसे तो CFA कोर्स आप केवल विदेश से ही कर सकते हैं। लेकिन भारत मे कुछ ऐसे भी कॉलेज हैं जहाँ से आप CFA कोर्स के लिए उच्च कोटि की शिक्षा ले सकते हैं। वह शीर्ष कॉलेज निम्नलिखित हैं?

  • इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस (ISB), हैदराबाद
  • नेशनल स्कूल ऑफ बिजनेस (NSB), मुंबई
  • नारायण बिजनेस स्कूल, अहमदाबाद
  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ बैंकिंग एंड फ़ाइनेंस (NIBF), मुंबई
  • नेशनल स्कूल ऑफ़ बैंकिंग (NSB), चेन्नई
  • जी.डी. गोयनका, गुरुग्राम
  • इंटरनेशनल कॉलेज ऑफ फाइनेंशियल प्लानिंग, कोलकाता
  • गोविंदाजी इंस्टीट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट (GIM), गोवा
  • इंटरनेशनल कॉलेज ऑफ फाइनेंशियल प्लानिंग, नई दिल्ली
  • ग्लोबल सेंटर फॉर एंटरप्रेन्योरशिप एंड कॉमर्स (GCEC), जयपुर
  • सेंट्रल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज, जबलपुर
  • एफटीएमएस ग्लोबल एकेडमी, चेन्नई
  • इंटरनेशनल कॉलेज ऑफ फाइनेंशियल प्लानिंग, लखनऊ
  • नारायण बिजनेस स्कूल, अहमदाबाद
  • मनसुख वित्तीय बाजार संस्थान, नई दिल्ली

CFA कोर्स के बाद कौन कौन सी नौकरी मिल सकती है?

CFA कोर्स को पूरा करने के बाद आपको वित्तीय सेक्टर में कई रोजगार के अवसर मिल सकते हैं। कुछ प्रमुख नौकरियों के उदाहरण निम्नलिखित हैं:

  • वित्तीय विश्लेषक
  • वित्तीय सलाहकार
  • पोर्टफोलियो मैनेजर
  • वित्तीय अनुसंधान विशेषज्ञ
  • वित्तीय कंसल्टेंट
  • कॉर्पोरेट फाइनेंस मैनेजर
  • इंवेस्टमेंट बैंकर
  • इक्विटी रिसर्च एसोसिएट
  • फाइनेंसियल एनालिस्ट
  • क्रेडिट एनालिस्ट
  • रिसर्च एनालिस्ट
  • इक्विटी एनालिस्ट

CFA कोर्स करने के बाद कितनी सैलरी मिलती है | CFA Salary in India

किसी भी जॉब की सैलरी विभिन्न कारणों पर निर्भर करती है, जैसे कि आपके क्षेत्र में काम करने की स्थिति, अनुभव की अवधि और कंपनी का स्तर उनमे से मुख्य है।

CFA कोर्स एक उच्च कोटि की हाई सैलरी वाला कोर्स है। CFA कोर्स करने के बाद आपको एक औसत सैलरी 6 से 10 लाख सालाना तक मिल सकता है। समय के साथ साथ अनुभव होने पर यह सैलरी और अधिक हो जायेगी।

क्या CFA, MBA से बेहतर है?

नहीं, CFA MBA से बेहतर नहीं है। यदि आप फाइनेंस के फिल्ड में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो CFA कोर्स आपके लिए एक बढ़िया विकल्प हो सकता है! वही यदि आप बिजनेस के सभी महत्तपूर्ण पहलुओं के बारे में व्यापक समझ प्राप्त करना चाहते हैं, तो MBA कोर्स आपके लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है। इस तरह से कह सकते हैं की CFA और MBA बेहतर कौन है यह आपके व्यक्तिगत लक्ष्यों और करियर लक्ष्यों के ऊपर निर्भर करता है

निष्कर्ष:-

CFA एक बढ़िया उच्च स्तर का कोर्स है। CFA कोर्स को पूरा करके विद्यार्थी वित्तीय उच्चस्तरीय सेक्टर में कई उच्चतम स्तर की नौकरियां पा सकते हैं।

मुझे पूरी उम्मीद है कि इस पूरे लेख को पढ़ने के बाद आपको CFA Course Details in Hindi के बारे में काफी अच्छी जानकारी हो गई होगी।

यदि आपको यह लेख पसंद आया हो तो इसको अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूले।

यदि आपका इस लेख को लेकर कोई सवाल हो तो आप कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं। हम आपके सवाल का जबाब जल्द से जल्द देने की कोशिश करेगें।

CFA Course Details in Hindi के बारे में सामान्य प्रश्न:

क्या मैं 12वीं के बाद CFA कर सकता हूं?

हां, आप 12वीं के बाद CFA कोर्स कर सकते हैं। CFA की परीक्षा एक चुनौतीपूर्ण परीक्षा होती है। इसलिए इसमे एडमिसन लेने से पहले इन सभी बातों को ध्यान में रखें।

CFA कोर्स के बाद हम क्या करते हैं?

CFA कोर्स के बाद आप वित्तीय विश्लेषक, वित्तीय सलाहकार, पोर्टफोलियो मैनेजर, वित्तीय कंसल्टेंट, कॉर्पोरेट फाइनेंस मैनेजर, इक्विटी रिसर्च एसोसिएट और फाइनेंसियल एनालिस्ट जैसे पदों पर जॉब लेकर अपना एक बढ़िया करियर बना सकते है।

क्या CFA भारत में एक अच्छा करियर विकल्प है?

हां, CFA भारत में एक अच्छा करियर विकल्प है। CFA करने के बाद वित्तीय अनुसंधान, पोर्टफोलियो मैनेजमेंट, वित्तीय सलाहकार, वित्तीय विश्लेषक जैसे विभिन्न रोजगार के अवसर मिलते हैं।

भारत में CFA का वेतन कितना है?

भारत मे CFA पास विद्यार्थियों का औसत वेतन 9 लाख सालाना तक हो सकता है। समय के साथ अनुभव होने पर यह वेतन और अधिक हो सकता है।

मेरा नाम सद्दाम हुसैन है और मैं इस ब्लॉग का फाउंडर और कंटेंट राइटर हूँ। इस ब्लॉग पर मैं एजुकेशन, सरकारी नौकरी, जॉब, कैरियर, बिजनेस, कोर्सेज और सेलेबस से रिलेटेड हर नई और महत्वपूर्ण लेख को रेगुलर बेसिक पर प्रकाशित करता रहता हूँ।

1 thought on “CFA Course Details in Hindi: CFA क्या होता है? पूरी जानकारी”

Leave a Comment

error: Content is protected !!