MA Karne Ke Fayde: एमए की योग्यता, कॉलेज,फीस, नौकरी और सैलरी

इस लेख की रूपरेखा:

यदि आप एक ऐसे स्टूडेंट हैं जिसमे अपने बैचलर की डिग्री पूरा कर ली है और आगे MA करने के बारे में सोच रहे हैं तो आपको MA Karne Ke Fayde के बारे में जानकारी होना चाहिए। MA करने से क्या क्या फायदे हैं बिना यह जाने आपको MA के कोर्स में एडमिशन नही लेना चाहिए।

आज हम आपको इस आर्टिकल में MA क्या होता है, MA Karne Ke Fayde, MA करने के लिए योग्यता, MA कोर्स की फीस कितनी होती है, MA करने के बाद नौकरी और सैलरी के बारे में विस्तार से बतायेगें। इस पूरे लेख को पढ़ने के बाद आपको MA के बारे में काफी अच्छी जानकारी हो जायेगी।

एमए क्या होता है | What is MA in Hindi

MA का मतलब “मास्टर ऑफ आर्ट्स” होता है। MA एक 2 साल का पोस्ट ग्रेजुएशन लेवल की मास्टर डिग्री है। MA की पढ़ाई विद्यार्थी ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरा करने के बाद करते हैं।

MA की कोर्स में एडमिशन लेने के लिए विद्यार्थियों को ग्रेजुएशन अच्छे अंको के साथ पास होना चाहिए। MA की पढ़ाई पूरा करने के बाद विद्यार्थी सरकारी और प्राइवेट विभाग में लेखपाल, टीचर, तहसीलदार, एचआर मैनेजर, सब इंस्पेक्टर और इंश्योरेंस एजेंट जैसे कई महत्वपूर्ण पदों पर आवेदन करके उच्च कोटि की हाई सैलरी वाली नौकरी पा सकते हैं।

MA का फुल फॉर्म क्या होता है | MA Full Form in Hindi

MA का फुल फॉर्म “Master of Arts” होता है। MA एक 2 साल की मास्टर डिग्री है जिसको विद्यार्थी स्नातक के बाद करते हैं। MA की मास्टर डिग्री लेने के बाद आप कई सारी सरकारी और प्राइवेट जगहों पर बढ़िया बढ़िया नौकरी लेकर अपना एक बेहतरीन कैरियर बना सकते हैं।

एमए करने के फायदे | MA Karne Ke Fayde

ग्रेजुएशन के बाद MA Karne Ke Fayde कई सारे हैं। इसके कुछ महत्वपूर्ण फायदे निम्नलिखित हैं।

  • MA की मास्टर डिग्री लेने के बाद आप कई सारे सरकारी और प्राइवेट के उच्च पदों के नौकरी के लिए आवेदन करके अपने लिए एक उच्च कोटि की नौकरी पा सकते हैं।
  • MA की मास्टर डिग्री लेने के बाद आप जिन जॉब के लिए आवेदन करते हैं उन सभी जॉब की सैलरी बहुत ज्यादा होती है। इसका मतलब की MA करने के बाद आपको हाई सैलरी वाली जॉब मिलने की संभावना बहुत ज्यादा होती है। यह भी एक अच्छा MA Karne Ke Fayde हैं।
  • MA की पढ़ाई में आप जिस विषय से MA करते हैं उस विषय मे आपको काफी गहराई से ज्ञान हो जाता है। इस तरह से कह सकते हैं कि MA करने से आपके ज्ञान और कौशल में वृद्धि होती है।
  • MA की पढ़ाई करने के बाद आप आगे शोध और शिक्षा के फील्ड में पीएचडी या अन्य उच्च-स्तरीय कोर्स करके और उच्च-स्तरीय ज्ञान पा सकते हैं। यह भी एक अच्छा MA Karne Ke Fayde हैं।
  • MA की पढ़ाई करने से आपकी समस्या-समाधान, विश्लेषणात्मक सोच और संचार कौशल विकसित होती है।
  • MA की पढ़ाई करने के बाद आप आप सरकारी और प्राइवेट अध्यापक के पद के लिए आवेदन करके सरकारी और प्राइवेट अध्यापक के रूप में अपना एक उच्च कोटि का कैरियर बना सकते हैं।
  • MA की मास्टर डिग्री लेने के बाद आप आगे सिविल सेवा की भी तैयारी करके एक सिविल अधिकारी बन सकते हैं। यह भी एक अच्छा MA Karne Ke Fayde हैं।
  • MA की मास्टर डिग्री लेने के बाद आप अपनी खुद का एक स्कूल या फिर कोचिंग क्लास भी शुरू कर सकते हैं।
  • MA की मास्टर डिग्री लेने के बाद आप इस काबिल हो जाते हैं कि भारत के अलावा विदेशो में भी जाकर एक उच्च कोटि की जॉब लेकर अपना एक बेहतरीन कैरियर बना सके। यह भी एक अच्छा MA Karne Ke Fayde हैं।
इसको भी पढ़े-   BCA Karne Ke Fayde: बीसीए की योग्यता, फीस, नौकरी और सैलरी?

MA करने के लिए योग्यता | MA Ke Liye Qualification?

MA करने के लिए कई महत्वपूर्ण योग्यता की जरूरत होती है। इसके कुछ महत्वपूर्ण योग्यता निम्नलिखित हैं।

  • विद्यार्थी भारत के किसी मान्यता प्राप्त कॉलेज से ग्रेजुएशन पास होना चाहिए।
  • विद्यार्थी का ग्रेजुएशन में 50% से ज्यादा अंक होना चाहिए।
  • विद्यार्थी की उम्र 18 साल से ज्यादा होना चाहिए।
  • विद्यार्थी भारत का नागरिक होना चाहिए।
  • कुछ कॉलेजो में MA में एडमिशन लेने के लिए प्रवेश परीक्षा देना पड़ता है जबकि कुछ कॉलेजो में डायरेक्ट एडमिशन हो जाता है।

MA कितने साल का कोर्स है?

MA कोर्स की अवधि आमतौर पर 2 साल की होती है। कोई भी ग्रेजुएशन पास विद्यार्थी MA कोर्स में एडमिशन ले सकता है। MA की पढ़ाई मुख्य रूप से रिसर्च और थ्योरी पर आधारित रहती है। MA की पढ़ाई पूरा करके आप अपना एक बढ़िया कैरियर बना सकते हैं।

MA में एडमिशन कैसे होता है?

MA में एडमिशन लेने के लिए आपको अपने चयन किये हुए कॉलेज में जाना होगा। वहाँ पर आपको एक आवेदन फॉर्म मिलेगा। आपको उस आवेदन फ़ॉर्म को अच्छे से भरना होगा।

आवेदन फॉर्म को अच्छे से भरने के बाद आपको अपने महत्वपूर्ण डॉक्यूमेंट जैसे कि ग्रेजुएशन की मार्कशीट और प्रमाण पत्र, पासपोर्ट साइज फ़ोटो और कोई आईडी प्रमाण पत्र की फोटोकॉपी को आवेदन फॉर्म के साथ रखकर कॉलेज के ऑफिस में जाकर जमा करना होगा।

आवेदन फॉर्म को जमा करने के बाद कॉलेज वाले कुछ दिनों में एक मेरिट लिस्ट निकालते हैं। यदि आपका नाम उस मेरिट लिस्ट में आ जाता है तो आपका एडमिशन उस कॉलेज में हो जायेगा। MA में एडमिशन को लेकर और सटीक जानकारी आपको कॉलेज की वेबसाइट या फिर कॉलेज की ऑफिस में जाकर मिल सकती है।

MA में कितने सब्जेक्ट होते हैं?

आप जिस सब्जेक्ट से ग्रेजुएशन करते हैं उसी सब्जेक्ट से आपको MA भी करना होता है। MA में कई सारे सब्जेक्ट होते हैं। कुछ महत्वपूर्ण सब्जेक्ट के नाम निम्नलिखित हैं।

  • अर्थशास्त्र
  • मनोविज्ञान
  • राजनीति शास्त्र
  • मानव शास्त्र
  • पुस्तकालय और सूचना
  • लोक प्रशासन
  • संगीत
  • समाजशास्त्र
  • इतिहास
  • भूगोल
  • साहित्य
  • पुरातत्व शास्त्र
  • दर्शन शास्त्र
  • धर्मशास्त्र

MA कोर्स करने के लिये बेस्ट कॉलेज?

MA की पढ़ाई करने के लिए भारत मे कई सारे कॉलेज मौजूद हैं। कुछ महत्वपूर्ण कॉलेजो के नाम निम्नलिखित हैं।

  • लेडी श्री राम कॉलेज फॉर विमेन, नई दिल्ली
  • हिंदू कॉलेज, नई दिल्ली
  • दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू)
  • क्राइस्ट यूनिवर्सिटी , बैंगलोर
  • चाणक्य विश्वविद्यालय, बैंगलोर
  • माउंट कार्मेल कॉलेज, बैंगलोर
  • डॉ. बी.आर. अम्बेडकर विश्वविद्यालय दिल्ली
  • अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, उत्तर प्रदेश
  • टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज, मुंबई
  • हंसराज कॉलेज, नई दिल्ली
  • सावित्रीवाई भूले पुणे विश्वविद्यालय
  • आत्म राम सनातन धर्म कॉलेज
  • श्री वेंकटेश्वर कॉलेज
  • लोयोला कॉलेज, चेन्नई
  • इंद्रप्रस्थ कॉलेज फॉर विमेन
  • रामजस कॉलेज, नई दिल्ली
  • दीनदयाल विश्वविद्यालय गोरखपुर, उत्तर प्रदेश
  • स्टेला मैरिस कॉलेज, चेन्नई
  • लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी, जालंधर
  • एमिटी यूनिवर्सिटी, नोएडा
  • थापर यूनिवर्सिटी, पटियाला

MA कोर्स की फीस कितनी होती है? | MA Course Fees

भारत के हर एक कॉलेज में MA कोर्स की फीस अलग अलग होती है। सरकारी कॉलेजो में MA कोर्स की फीस कम होती है। वही प्राइवेट कॉलेजो में MA कोर्स की फीस सरकारी कॉलेजो के मुकाबले ज्यादा होती है।

सरकारी कॉलेजो में MA कोर्स की औसतन फीस ₹4000- ₹8000 प्रति साल तक हो सकती है। वही प्राइवेट कॉलेजो में MA कोर्स की औसतन फीस ₹10000- ₹20000 प्रति साल तक हो सकती है।

इसको भी पढ़े-   IIM क्या होता है: योग्यता, एडमिशन प्रक्रिया, फीस और नौकरी?

नोट- यह एक अनुमानित फीस है। MA कोर्स की फीस के बारे में आपको एकदम सटीक जानकारी कॉलेज की वेबसाइट या फिर ऑफिस में जाकर मिल सकती है।

MA करने के बाद कौन सी नौकरी मिल सकती है।

MA करने के बाद आप कई तरह के सरकारी और प्राइवेट विभाग में अच्छे अच्छे नौकरियों के लिए आवेदन कर सकते हैं। MA करने के बाद मिलने वाले कुछ महत्वपूर्ण नौकरियों के नाम निम्नलिखित हैं।

  • प्राइमरी स्कूल टीचर
  • प्राइवेट स्कूल टीचर
  • एचआर मैनेजर
  • एक्जीक्यूटिव असिस्टेंट
  • इनकम टैक्स इंस्पेक्टर
  • रेलवे पुलिस फोर्स
  • लोको पायलट
  • जनसंपर्क प्रबंधक
  • लेखपाल
  • बेसिक शिक्षा अधिकारी
  • सब इंस्पेक्टर
  • इंश्योरेंस एजेंट
  • कलेक्टर
  • डिप्टी कलेक्टर
  • तहसीलदार
  • सब डिविजनल मजिस्ट्रेट
  • आबकारी अधिकारी
  • मनोविज्ञानी
  • एसपी
  • विद्यालय परामर्शदाता
  • पुलिस कांस्टेबल
  • रिसर्च एनालिस्ट
  • मार्केट रिसर्च एनालिस्ट
  • मार्केटिंग एनालिस्ट
  • बिज़नेस एनालिस्ट
  • सलाहकार
  • डिजिटल मार्केटिंग
  • जर्नलिज्म

MA करने के बाद सैलरी | MA Ke Baad Salary?

MA करने के बाद आपको मिलने वाली सैलरी आपके जॉब के प्रकार, अनुभव और जॉब के पद कर निर्भर करता है। एक सर्वे के अनुसार भारत मे MA करने के बाद मिलने वाले नौकरी की औसतन सैलरी ₹25000- ₹160000 प्रति महीना तक हो सकती है। अब ये आपके ऊपर निर्भर करता है कि MA करने के बाद आपका जॉब कहाँ पर लगता है।

MA करने के बाद आगे कौन सा कोर्स करें?

MA करने के बाद आगे अध्ययन के कई सारे विकल्प मौजूद हैं। MA करने के बाद आगे अध्ययन के कुछ महत्वपूर्ण विकल्प निम्नलिखित हैं।

निष्कर्ष:

ग्रेजुएशन के बाद MA करना आपके लिए एक बढिया विकल्प हो सकता है। MA Karne Ke Fayde कितने सारे हैं इसके बारे में हमने आपको ऊपर विस्तार से बताया है। ग्रेजुएशन के बाद MA करके आप अपना एक बढ़िया कैरियर बना सकते हैं। अब ये आपके ऊपर निर्भर करता है कि ग्रेजुएशन के बाद MA आपको करना चाहिए कि नही करना चाहिए।

मैं उम्मीद करता हूँ कि इस पूरे लेख को पढ़ने के बाद MA के बारे आपको काफी अच्छी जानकारी हो गई होगी। इस लेख को लेकर यदि आपका कोई सवाल हो तो आप पूछ सकते हैं। हम आपके सवाल का जबाब जल्द से जल्द देने की कोशिश करेगें।

MA Karne Ke Fayde के बारे में सामान्य प्रश्न?

भारत में MA के लिए कौन सा विषय सबसे अच्छा है?

भारत में MA के लिए सबसे अच्छा विषय अंग्रेजी, इतिहास, समाजशास्त्र, अर्थशास्त्र और राजनीति शास्त्र को माना जाता है।

MA फर्स्ट ईयर में कितने सेमेस्टर होते हैं?

MA फर्स्ट ईयर में कुल 6-6 महीने के 2 सेमेस्टर होते हैं।

MA करने के बाद BEd कितने साल का होता है।

MA करने के बाद BED करने में आपको 1 साल का समय लगता है।

MA के छात्रों को छात्रवृत्ति मिलती है।

MA के बाद मैं Phd कर सकते हैं?

हाँ, आप MA के बाद Phd कर सकते हैं।

MA के बाद सरकारी नौकरी के लिए आवेदन कर सकते हैं।

हाँ, आप MA के बाद अलग अलग तरह की सरकारी नौकरी के लिए आवेदन करके उच्च कोटि की सरकारी नौकरी ले सकते हैं।

मेरा नाम सद्दाम हुसैन है और मैं इस ब्लॉग का फाउंडर और कंटेंट राइटर हूँ। इस ब्लॉग पर मैं एजुकेशन, सरकारी नौकरी, जॉब, कैरियर, बिजनेस, कोर्सेज और सेलेबस से रिलेटेड हर नई और महत्वपूर्ण लेख को रेगुलर बेसिक पर प्रकाशित करता रहता हूँ।

Leave a Comment

error: Content is protected !!