DAMS Course Details in Hindi: योग्यता, फीस, सैलरी और नौकरी?

इस लेख की रूपरेखा:

भारतीय सभ्यता में हजारों वर्षों से आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति का उपयोग होता आ रहा है। यदि आप भी प्राचीन आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति को सीखना चाहते है तो उसके लिए आपको DAMS का कोर्स करना पड़ेगा।

आप DAMS का कोर्स करके प्राचीन आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति सीख सकते है। उसके बाद आप आयुर्वेदिक मेडिकल साइंस में अपना एक बेहतरीन करियर बना सकते है।

आज हम इस लेख में DAMS Course Details in Hindi के बारे में हर एक महत्वपूर्ण चीज़ को विस्तार से जानने की कोशिश करेगें। इस लेख में हम आपके साथ dams क्या होता है, dams कोर्स में एडमिशन योग्यता, DAMS कोर्स की फीस, DAMS के लिए बेस्ट कॉलेज, DAMS करने के फायदे, DAMS कोर्स के बाद जॉब और DAMS के बाद सैलरी जैसी चीज़ों को बतायेगें।

DAMS क्या होता है | DAMS Course Details in Hindi

DAMS क्या होता है

DAMS का मतलब डिप्लोमा ऑफ आयुर्वेदिक मेडिकल साइंस होता है। जिसको हम सरल भाषा मे आयुर्वेदिक चिकित्सा विज्ञान कहते है। यह एक डिप्लोमा कोर्स होता है। DAMS कोर्स की अवधि 2 साल होता है।

इन 2 सालो में विद्यर्थियों को आयुर्वेदिक चिकित्सा के बारे में काफी गहराई से ज्ञान दिया जाता है। DAMS का कोर्स करने के बाद आप आयुर्वेदिक चिकित्सा में एक्सपर्ट बन जाते है।

DAMS में मुख्य रूप से विद्यर्थियों को आयुर्वेदिक चिकित्सा की मौलिक सिद्धांतों, रोग निदान और उपचार, औषधीय और आहारिक उपचारों की विविधता के बारे में संपूर्ण और विस्तृत ज्ञान दिया जाता है।

इस कोर्स को करने के बाद आप विभिन्न चिकित्सा संस्थानों, अस्पतालों, औषधीय उत्पादन इकाइयों, और निजी चिकित्सा केंद्रों में आसानी से नौकरी पा सकते है

आज के समय मे दिन प्रतिदिन आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति का डिमांड भारत के साथ साथ दूसरे देशों में भी बढ़ता ही जा रहा है।

यदि आपको आयुर्वेदिक चिकित्सा में रुचि है और आप इसमे ही अपना करियर बनाना चाहते है तो इस स्तिथी में DAMS कोर्स आपके लिए एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है।

DAMS कोर्स क्यों करना चाहिये?

यदि आपके भी दिमाक में ये सवाल आता है कि DAMS कोर्स क्यों करना चाहिये तो आप सही जगह पर है। यहाँ हम आपके साथ DAMS कोर्स करने के कुछ महत्वपूर्ण कारण को बताने जा रहे है। इनको जानने के बाद आपको एक आईडिया लग जायेगा कि आपको DAMS कोर्स क्यो करना चाहिए।

इसको भी पढ़े-   B.Com Course Details: बीकॉम क्या होता है? पूरी जानकारी

  • DAMS कोर्स करने का एक प्रमुख्य कारण ये है कि आप इसके माध्यम से भारतीय सभ्यता में हजारों वर्षों से प्रचलित प्रमुख चिकित्सा पद्धति को जानने का मौका मिलेगा।
  • DAMS कोर्स में आपको प्राकृतिक उपचारों के बारे में काफी विस्तार से ज्ञान दिया जाता है। इसमे आपको वनस्पति, औषधि और आहार हमारे बॉडी को कैसे स्वस्थ और सुरक्षित रखने है। इसके बारे में आपको बेहतरीन ज्ञान हो जायेगा।
  • DAMS कोर्स में आपको रोगों से बचने और स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए काफी बेहतरीन जानकारी प्रदान किया जाता है।
  • DAMS कोर्स करने के बाद आप आयुर्वेदिक औषधियों के बारे मे काफी अच्छी जानकारी हो जायेगी। इसके साथ साथ आपको कौन सी औषधि किस रोग के लिए उपयोग मे आती है उसके बारे मे भी काफी अच्छा ज्ञान हो जायेगा।
  • DAMS कोर्स करने के बाद आप आयुर्वेदिक अस्पतालों और क्लिनिक्स में काफी अच्छी अच्छी नौकरी पा सकते हैं। इसके साथ साथ आप अपनी खुद का आयुर्वेदिक चिकित्सा संस्थान भी खोल सकते है।

DAMS का फुल फॉर्म क्या होता है | DAMS Full Form in Hindi

DAMS का Full Forum “Diploma of Ayurvedic Medical Science” होता है। जिसको हिंदी में आयुर्वेदिक मेडिकल साइंस डिप्लोमा कहते है।

DAMS में विद्यार्थियों को आयुर्वेदिक चिकित्सा के विभिन्न पहलुओं के बारे में ज्ञान दिया जाता है। DAMS एक 2 साल का डिप्लोमा कोर्स होता है जिसको करके आप आयुर्वेदिक चिकित्सा के क्षेत्र में अपना एक बेहतरीन करियर बना सकते है।

DAMS कोर्स करने के लिए क्या योग्यता चाहिए | DAMS Ke Liye Qualification?

डिप्लोमा ऑफ आयुर्वेदिक मेडिकल साइंस के कोर्स में एडमिशन लेने के लिए कई तरह की योग्यता आपके पास होनी चाहिए। इस कोर्स के लिए निर्धारित की गई महत्वपूर्ण योग्यता यहाँ हम शेयर करने जा रहे है।

  • DAMS कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आपका भारतीय नागरिक होने अनिवार्य है। दूसरे देशों के लोग इसमे एडमिसन नही ले सकते है।
  • DAMS कोर्स में एडमिशन लेने के लिए विद्यार्थी की रुचि मेडिकल अथवा चिकित्सा क्षेत्र में होना चाहिए
  • DAMS कोर्स में एडमिशन लेने के लिए विद्यार्थी की उम्र 18 साल या फिर उससे ज्यादा होना चाहिए।
  • भारत के कुछ कॉलेजो और संस्थानों में DAMS कोर्स में एडमिशन लेने के लिए प्रवेश परीक्षा देना पड़ता है। प्रवेश परीक्षा पास करने के बाद ही विद्यार्थी का एडमिसन DAMS कोर्स में होता है।

DAMS कोर्स की फीस कितनी है | DAMS Course Fees 

 DAMS Course Fees

DAMS कोर्स की फीस हर एक कॉलेज और संस्थान में अलग अलग होती है। किसी भी कोर्स की फीस कोर्स की अवधि, पाठ्यक्रम का संरचना, और संस्थान के मानकों पर निर्भर करता है।

अगर बात करे DAMS कोर्स की एक औसत फीस की तो वह 50,000 से 2 लाख प्रति साल के लिए हो सकती है। यह एक अनुमानित फीस है आप इच्छित प्रशिक्षण संस्थान की वेबसाइट पर जाकर एकदम सटीक फीस की जानकारी ले सकते है।

DAMS Syllabus in Hindi | डीएएमएस कोर्स का पाठ्यक्रम

DAMS के कोर्स में आयुर्वेदिक चिकित्सा के विभिन्न पहलुओं के बारे में विद्यार्थियों को पढ़ाया जाता है। यहाँ हम आपके साथ DAMS Syllabus in Hindi को शेयर करने जा रहे है। उम्मीद है ये जानकारी आपको पसंद आयेगी।

इसको भी पढ़े-   BTA Course Details in Hindi: बीटीए कोर्स से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी

1. आयुर्वेदिक चिकित्सा के मूल सिद्धांत

  • आयुर्वेदिक सिद्धांत का इतिहास
  • त्रिदोष सिद्धांत
  • पंचमहाभूत सिद्धांत
  • सप्तधातु सिद्धांत
  • प्राण, मन, और आत्मा की परिभाषा

2. रोग निदान और उपचार

  • निदान पद्धति
  • रोगी का अध्ययन
  • रोग प्रकृति और निदान
  • औषधियों के उपयोग से रोगों का उपचार
  • प्राकृतिक और आयुर्वेदिक उपचार तकनीकें

3. आयुर्वेदिक औषधियाँ

  • औषधीय पौधों की पहचान
  • औषधीय पौधों की गुणधर्म
  • औषधीय पौधों का उपयोग और मार्गनिर्देशिका

4. आयुर्वेदिक प्रयोगशाला

  • प्रयोगशाला का आयोजन
  • औषधीय औषधियों का निर्माण
  • रस, बस्ती, क्षार, लेपन, आदि की तैयारी

5. प्राणायाम और योग

  • प्राणायाम की परिभाषा और महत्व
  • आयुर्वेदिक योगासन
  • ध्यान और मनोविज्ञान

6. आहार और पोषण

  • आयुर्वेदिक आहार के सिद्धांत
  • आहार की प्रकृति और गुणधर्म
  • आहार के उपयोग से रोगों का निदान और उपचार

7. पंचकर्म चिकित्सा

  • वमन
  • विरेचन
  • नस्या
  • बस्ती
  • रक्तमोक्ष

8. आयुर्वेदिक मसाज तकनीकें

  • आयुर्वेदिक मसाज के फायदे
  • मसाज की विधियाँ और तकनीकें

DAMS कोर्स करने के फायदे | DAMS Course Karne Ke Fayde

यदि आप DAMS कोर्स करने के बारे में सोच रहे है तो आपको इसके फायदे के बारे में पता रहना चाहिए। यहाँ हम आपके साथ DAMS कोर्स करने के कुछ महत्वपूर्ण फायदे को शेयर करने जा रहा हूं। इन फायदे को जानने के बाद आपको एक आईडिया लग जायेगा कि आपको DAMS कोर्स क्यो करना चाहिए।

  • DAMS कोर्स करने के बाद आप आयुर्वेदिक चिकित्सा के विभिन्न पहलुओं में एक्सपर्ट बन जाते है। जिसके कारण आप रोग निदान, उपचार, औषधीय उत्पादन और आयुर्वेदिक सलाहकार के रूप में एक बेहतरीन करियर बना सकते है।
  • DAMS कोर्स करने के बाद आपको आयुर्वेदिक उपचारों का उपयोग करना काफी अच्छी तरह से आ जाता है। इसके साथ साथ आप आयुर्वेदिक उपचारों का उपयोग करके अपने परिवार के सदस्यों का इलाज करने में सक्षम हो जाते है।
  • DAMS कोर्स करने के बाद आप आयुर्वेदिक चिकित्सा के फील्ड में बेहतरीन कैरियर बनाकर सुखी जीवन ब्यतीत कर सकते है। DAMS कोर्स के बाद आपको निजी अस्पतालों, आयुर्वेदिक क्लिनिकों और स्वास्थ्य संगठनों में आसानी से नौकरी मिल सकती है।
  • DAMS कोर्स के बाद आप आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रणाली को आधुनिक समाज में महत्वपूर्ण स्थान दिलवाने में मदद कर सकते है। यह भी DAMS कोर्स करने का एक महत्वपूर्ण फायदा है।

DAMS कोर्स के लिए भारत के बेस्ट कॉलेज | Best Colleges For DAMS Course?

यहाँ हम आपके साथ DAMS कोर्स के लिए भारत के बेस्ट कॉलेज को शेयर कर रहे है। इन कॉलेजो में DAMS कोर्स करके आप उच्च शिक्षा प्रदान कर सकते है।

  • डॉ. अटल मिश्रा मेडिकल इंस्टीट्यूट, दिल्ली
  • आयुष औद्योगिक विश्वविद्यालय, रोहतक
  • राष्ट्रीय आयुर्वेद विद्यापीठ, जयपुर
  • गुजरात आयुर्वेद विश्वविद्यालय, जामनगर
  • ग्लेनमार्क एकेडमी फॉर मेडिकल एजुकेशन, बैंगलोर
  • आयुष विश्वविद्यालय, हैदराबाद
  • विश्व भारती विद्यापीठ, संतिनिकेतन
  • चरक संस्थान ऑफ आयुर्वेद, नई दिल्ली
  • भारतीय प्राकृतिक औषधि संस्थान, गांविया
  • राजीव गांधी आयुर्वेदिक विज्ञान संस्थान, तेलंगाना
  • आयुष औद्योगिक अनुसंधान संस्थान, गांविया
  • राजिव गांधी आयुर्वेद विश्वविद्यालय, बंगलौर

DAMS कोर्स करने के बाद कौन कौन सी नौकरी मिल सकती है?

DAMS कोर्स के करने के बाद आपको कई सारे जगहों पर जॉब मिल सकता है। यहाँ हम आपके साथ कुछ महत्वपूर्ण स्थानों को शेयर कर रहे है जहाँ पर आपको DAMS कोर्स के करने के बाद जॉब मिल सकती है।

आयुर्वेदिक अस्पतालो में: DAMS कोर्स के करने के बाद आपको आयुर्वेदिक अस्पतालो में चिकित्सा अधिकारी, रोग निदान के विशेषज्ञ, औषधीय विज्ञान विशेषज्ञ, और प्रशासनिक कार्यकारी के रूप में नौकरी मिल सकती है।

इसको भी पढ़े-   LLM Course Details in Hindi: LLM क्या होता है? पूरी जानकारी

आयुर्वेदिक क्लिनिको में: DAMS की पढ़ाई पूरा करने के बाद आपको आयुर्वेदिक क्लिनिक में काम मिल सकता है। इसके अलावा आप अपने खुद का आयुर्वेदिक क्लिनिक भी खोल सकते है।

उत्पादन और मार्केटिंग कंपनियाँ में: DAMS कोर्स के करने के बाद आप आयुर्वेदिक उत्पादों, औषधियों की मार्केटिंग और उत्पादन कंपनियों में बेहतरीन जॉब पा सकते है। यहाँ पर आपको नए औषधियों के विकास, उत्पादन प्रक्रिया, मार्केटिंग, और ग्राहक सम्पर्क का काम करना पड़ेगा।

शोध संगठन में: DAMS कोर्स के करने के बाद आप आयुर्वेदिक चिकित्सा पर शोध कार्य आधारित कंपनियों में रिसर्च फेलो अथवा स्पेशलिस्ट के रूप में जॉब पा सकते है। यहाँ पर आपका मुख्य काम आयुर्वेदिक उत्पादों और चिकित्सा के विभिन्न पहलुओं पर अध्ययन और अनुसंधान करना होगा।

शिक्षण संस्थान में: DAMS की पढ़ाई पूरा करने के बाद आयुर्वेदिक चिकित्सा के क्षेत्र में शिक्षण संस्थानों में प्रोफेसर और अध्यापक के रूप में नौकरी पा सकते है। यहाँ पर आप DAMS की पढ़ाई के दौरान मिला ज्ञान नये विद्यार्थियों के साथ शेयर करना पड़ेगा।

यहाँ पर हमने कुछ महत्वपूर्ण नौकरियों के बारे में बताया है जो आपको DAMS की पढ़ाई पूरा करने के बाद मिल सकता है। इनके अलावा भी और कई सारे विकल्प है। आप अपनी रुचि और कैरियर लक्ष्य के अनुसार किसी एक का चुनाव कर सकते है।

DAMS कोर्स करने के बाद कितनी सैलरी मिलती है

किसी भी नौकरी की सैलरी कई सारी बातों पर निर्भर करती है। जैसे की कंपनी, अनुभव, नौकरी और पद उनमे से मुख्य है। इसलिए DAMS कोर्स करने के बाद मिलने वाली सैलरी को एकदम सटीक बता पाना मुश्किल है।

अगर बात करें DAMS कोर्स करने के बाद मिलने वाली एक अनुमानित और औसत सैलरी की तो वह 25,000 रुपये से 50,000 रुपये प्रतिमाह तक हो सकती है। समय के साथ साथ अनुभव होने पर यह सैलरी और अधिक हो सकती है।

निष्कर्ष:-

अब तक के लेख में आपको DAMS Course Details in Hindi के बारे मे काफी अच्छी जानकारी हो गई होगी। DAMS करने के बाद आप उच्चतम स्तर के अस्पतालों, आयुर्वेदिक क्लिनिकों और शोध संगठनों में बेहतर नौकरी पाकर महीने के 25,000 रुपये से 50,000 रुपये तक कमा सकते है।

यदि आपको यह लेख उपयोगी लगा हो तो इसको अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। इसके साथ साथ यदि आपका इस लेख को लेकर कोई सवाल हो तो उसको कमेंट के माध्यम पूछ सकते है। हम आपके सवाल का जबाब जल्द से जल्द देने की कोशिश करेगें।

DAMS Course Details in Hindi के बारे में सामान्य प्रश्न?

DAMS (आयुर्वेदिक मेडिकल साइंस डिप्लोमा) कोर्स क्या है?

DAMS कोर्स एक आयुर्वेदिक मेडिकल साइंस कोर्स है। DAMS कोर्स विद्यर्थियों को आयुर्वेदिक चिकित्सा का ज्ञान देता है। DAMS कोर्स करने के बाद विद्यर्थियों आयुर्वेदिक सिद्धांतों, रोग निदान, उपचार विधियों, औषधीय विज्ञान और आयुर्वेदिक शोध का काफी बेहतरीन ज्ञान हो जाता है।

DAMS कोर्स की अवधि क्या होती है?

DAMS कोर्स की अवधि सामान्यत 2 साल होती है। इन 2 सालो में DAMS कोर्स में विद्यर्थियों को थ्योरेटिकल और प्रैक्टिकल दोनों तरह का ज्ञान दिया जाता है।

DAMS कोर्स का पूरा नाम क्या है?

DAMS का पूरा नाम “Diploma of Ayurvedic Medical Science” होता है। जिसको हम हिंदी में “आयुर्वेदिक मेडिकल साइंस डिप्लोमा” कहते हैं।

DAMS कोर्स से किस तरह का करियर बनाया जा सकता है?

DAMS कोर्स के द्वारा आप कई तरह से अपना करियर बना सकते है जैसे आप अस्पतालों में चिकित्सा अधिकारी बन सकते है, अपनी खुद का आयुर्वेदिक क्लिनिक खोल सकते हैं और शोध और विकास संगठनों में काम कर सकते हैं।

मेरा नाम सद्दाम हुसैन है और मैं इस ब्लॉग का फाउंडर और कंटेंट राइटर हूँ। इस ब्लॉग पर मैं एजुकेशन, सरकारी नौकरी, जॉब, कैरियर, बिजनेस, कोर्सेज और सेलेबस से रिलेटेड हर नई और महत्वपूर्ण लेख को रेगुलर बेसिक पर प्रकाशित करता रहता हूँ।

12 thoughts on “DAMS Course Details in Hindi: योग्यता, फीस, सैलरी और नौकरी?”

  1. डी ए एम एस कोर्स कहां से होता है और इसका फीस कितनी होती है और यह कितने साल का होता है और इसे करने के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए नॉन अटेंडिंग हो सकता है इसका जरूरDAMS

    Reply
    • आप अपने लोकल सिटी में जाकर DAMS कॉलेज के बारे में पता कर सकते हैं। इसके अलावा कुछ कॉलेजो के बारे में हमने इस पोस्ट में भी बताया है।

      DAMS कोर्स की एक औसत फीस 50,000 से 2 लाख प्रति साल तक हो सकती है। DAMS कोर्स 2 साल का होता है। कोई भी 12वीं साइंस स्ट्रीम से पास स्टूडेंट इस कोर्स को कर सकता है।

      Reply
      • BAMS में प्रवेश के लिए, उम्मीदवारों को निम्नलिखित पात्रता मानदंडों को पूरा करना होगा:

        उम्मीदवार ने किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 10+2 की परीक्षा विज्ञान विषय (भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान) के साथ उत्तीर्ण की हो।
        उम्मीदवार की आयु 17 वर्ष से कम और 25 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए।

        BAMS में प्रवेश के लिए, उम्मीदवारों को राष्ट्रीय स्तर की प्रवेश परीक्षा, NEET (UG) में बैठना होगा। NEET (UG) एक कंप्यूटर आधारित परीक्षा है जो हर साल आयोजित की जाती है।

        Reply
  2. Sir Mai dams course karna chahta hu mera age 31 y/m hai Kya mai admission ke sakta hu to admission ka proses Kya hai please help me sr

    Reply
    • BAMS में प्रवेश के लिए, उम्मीदवारों को निम्नलिखित पात्रता मानदंडों को पूरा करना होगा:

      उम्मीदवार ने किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 10+2 की परीक्षा विज्ञान विषय (भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान) के साथ उत्तीर्ण की हो।
      उम्मीदवार की आयु 17 वर्ष से कम और 25 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए।

      BAMS में प्रवेश के लिए, उम्मीदवारों को राष्ट्रीय स्तर की प्रवेश परीक्षा, NEET (UG) में बैठना होगा। NEET (UG) एक कंप्यूटर आधारित परीक्षा है जो हर साल आयोजित की जाती है।

      Reply
  3. सर मेरी उम्र 42साल है क्या मैं डिस्टेंस मॉड से डीएमएस कर सकता हूं अगर कर सकता हूं तो उसे संस्थान का नाम बताइए

    Reply

Leave a Comment

error: Content is protected !!