पोस्ट ग्रेजुएशन क्या होता है: सम्पूर्ण और विस्तृत जानकारी?

इस लेख की रूपरेखा:

भारत मे ज्यादातर विद्यार्थी 12वीं के बाद ग्रेजुएशन करना पसंद करते हैं लेकिन ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी करने के बाद आगे क्या करना होता है उसके बारे में कुछ ज्यादा जानकारी नही होती है। बहुत से विद्यार्थियों को यह ही नही पता होगा है कि ग्रेजुएशन के बाद पोस्ट ग्रेजुएशन भी होता है। यदि आप एक ऐसे विद्यार्थी हैं जिसको पोस्ट ग्रेजुएशन क्या होता है इसके बारे में कुछ ज्यादा पता नही है तो आप सही जगह पर हैं।

इस उच्च कोटि के लेख में हम आपको पोस्ट ग्रेजुएशन क्या होता है, पोस्ट ग्रेजुएशन कितने प्रकार के होते हैं, पोस्ट ग्रेजुएशन के अंदर कौन कौन से कोर्स आते हैं और भारत मे पोस्ट ग्रेजुएशन करने के लिए टॉप कॉलेज जैसी कई महत्वपूर्ण चीज़ो के बारे विस्तार से बतायेगें। तो चलिए शुरू करते हैं।

पोस्ट ग्रेजुएशन क्या होता है | Post Graduation Kya Hota Hai?

पोस्ट ग्रेजुएशन एक ऐसा कोर्स होता है जिसको विद्यार्थी ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरा करने के बाद करते हैं। पोस्ट ग्रेजुएशन के अंदर कई सारे कोर्स आते हैं। पोस्ट ग्रेजुएशन को मास्टर डिग्री के नाम से भी जाना जाता है। पोस्ट ग्रेजुएशन एक ऐसा कोर्स होता है जो किसी विशेष विषय में विद्यार्थी को विशेषज्ञता प्रदान करता है।

ज्यादातर पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स की अवधि 1-5 साल के बीच मे होती है। कोई भी ग्रेजुएशन पास विद्यार्थी पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स में एडमिशन ले सकता है। पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स तीन प्रकार के होते हैं जो की मास्टर डिग्री, एमफिल और पीएचडी हैं।

कुछ महत्वपूर्ण पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स के नाम मास्टर ऑफ आर्ट्स (MA), मास्टर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (MBA), मास्टर ऑफ लॉ (LLM), मास्टर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन (MCA) और मास्टर ऑफ एजुकेशन है।

किसी भी पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स में विद्यार्थियों को चुने हुए विषय मे उच्च कोटि और गहराई के साथ ज्ञान प्रदान किया जाता है। यदि आप कोई भी पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स सफलतापूर्वक कर लेते है तो आपको एक मास्टर डिग्री मिलती है आप इस मास्टर डिग्री की मदद से अपना एक बढ़िया कैरियर बना सकते हैं।

भारत सरकार समय समय पर कई सारी उच्च कोटि की सरकारी भर्तियां निकालती रहती हैं जिसमे आवेदन करने के लिए विद्यार्थी के पास पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री होना आवश्यक रहता है। यदि आप पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई कर लेते हैं तो आप इन पदों में आवेदन करके एक उच्च कोटि की सरकारी नौकरी भी पा सकते हैं।

पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स कितने प्रकार के होते हैं?

पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स मुख्य रूम से 3 प्रकार के होते हैं जो मास्टर डिग्री, एमफिल और पीएचडी हैं। इन तीनो के बारे में और अधिक जानकारी हमने आपको नीचे बताया है।

मास्टर डिग्री: मास्टर डिग्री को स्नातकोत्तर डिग्री के नाम से भी जाना जाता है। ज्यादातर मास्टर डिग्री कोर्स की अवधि 1-2 साल की होती है। मास्टर डिग्री विद्यार्थियों को अपने फील्ड में विशेषज्ञता प्राप्त करने में मदद करती है। कुछ महत्वपूर्ण मास्टर डिग्री के नाम मास्टर ऑफ आर्ट्स (एमए), मास्टर ऑफ साइंस (एमएस) और मास्टर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (एमबीए) है।

एमफिल: एमफिल भी एक पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स का प्रकार है। ज्यादातर एमफिल कोर्स की अवधि 2 साल की होती है। एमफिल कोर्स में विद्यार्थी अपनी फील्ड में उच्च कोटि के शोध करते हैं। कुछ महत्वपूर्ण एमफिल कोर्स के नाम एमफिल इन साइंस (एम.फिल.), एमफिल इन आर्ट्स (एम.फिल.) और एमफिल इन बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (एम.फिल.) हैं।

इसको भी पढ़े-   10वीं के बाद कॉमर्स लेने के फायदे: जानिए विस्तार से?

पीएचडी: पीएचडी भी एक तरह से पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स का एक प्रकार है। पीएचडी कोर्स की अवधि आमतौर पर 3-5 साल की होती है। पीएचडी कोर्स विद्यार्थियों को अपने फील्ड में विशेषज्ञ बनने के लिए तैयार करता है। पीएचडी के कुछ महत्वपूर्ण प्रकार पीएच.डी. इन साइंस (पीएच.डी.), पीएच.डी. इन आर्ट्स (पीएच.डी.) और पीएच.डी. इन बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (पीएच.डी.) हैं।

पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स कितने साल का होता है?

जैसा कि मैंने आपको ऊपर बताया है कि पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स के प्रकार कई सारे होते हैं। हर एक पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स की अवधि अलग अलग होती हैं जैसे की मास्टर डिग्री कोर्स की अवधि आमतौर पर 1-2 साल की होती है वही एमफिल कोर्स की अवधि 2 साल होती है और पीएचडी की अवधि आमतौर पर 3-5 साल के बीच होती है।

इस तरह से कह सकते हैं पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स अवधि आमतौर पर 1-5 साल के बीच मे होती है।

पोस्ट ग्रेजुएशन के अंदर कौन कौन से कोर्स आते हैं?

पोस्ट ग्रेजुएशन में बहुत सारे कोर्सेज आते हैं कुछ महत्वपूर्ण और प्रसिद्ध कोर्स के नाम निम्नलिखित हैं।

  • मास्टर ऑफ आर्ट्स (MA)
  • मास्टर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (MBA)
  • मास्टर ऑफ कॉमर्स (MCom)
  • मास्टर ऑफ साइंस (Msc)
  • मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी (MTech)
  • मास्टर ऑफ लॉ (LLM)
  • मास्टर ऑफ फिलॉसॉफी (MPhil)
  • पीएच.डी. इन साइंस (Phd)
  • पीएच.डी. इन आर्ट्स (Phd)
  • पीएच.डी. इन बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (Phd)
  • मास्टर ऑफ होटल मैनेजमेंट (MHM)
  • मास्टर ऑफ फार्मेसी (MPharm)
  • मास्टर ऑफ जर्नलिज्म एंड मॉस कम्युनिकेशन (MJMC)
  • मास्टर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन (MCA)
  • मास्टर ऑफ एजुकेशन (MeD)
  • मास्टर ऑफ फॉरेंसिक साइंस (MFS)
  • मास्टर ऑफ साइंस इन नर्सिंग (MSN)
  • मास्टर ऑफ इंफॉर्मेटिक्स (MI)
  • मास्टर ऑफ फाइनेंस (MF)
  • मास्टर ऑफ डिज़ाइन (MDes)
  • मास्टर ऑफ फाइन आर्ट्स (MFA)
  • मास्टर ऑफ मार्केटिंग (MM)
  • मास्टर ऑफ मैनेजमेंट (MM)
  • मास्टर ऑफ पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन (MPA)
  • मास्टर ऑफ पब्लिक हेल्थ (MPH)
  • मास्टर ऑफ पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन (MPA)
  • मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग (ME)
  • मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी (MT)
  • मास्टर ऑफ फिजिकल थेरेपी (MPT)
  • मास्टर ऑफ ऑक्युपेशनल थेरेपी (MOT)
  • मास्टर ऑफ रूरल डेवलपमेंट (MRD)
  • मास्टर ऑफ एप्लाइड साइकोलॉजी (MAP)
  • मास्टर ऑफ सोशल वर्क (MSW)
  • मास्टर ऑफ सोशल साइंस (MSS)
  • मास्टर ऑफ सिविल इंजीनियरिंग (MCE)
  • मास्टर ऑफ इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग (MEE)
  • मास्टर ऑफ मैकेनिकल इंजीनियरिंग (MME)
  • मास्टर ऑफ साइबर सिक्योरिटी (MCS)

पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स करने के योग्यता?

कोई भी पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स करने के लिए कुछ योग्यता की जरूरत होती है। पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स करने के लिए महत्वपूर्ण योग्यता निम्नलिखित हैं।

  • पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स में एडमिशन लेने के लिए विद्यार्थी के पास किसी मान्यता प्राप्त कॉलेज से किसी भी विषय में ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए।
  • पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स में एडमिशन लेने के लिए विद्यार्थी का ग्रेजुएशन कोर्स में 40%-50% अंक रहना चाहिए।
  • पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स में एडमिशन लेने के लिए विद्यार्थी की अंग्रेजी भाषा में अच्छी पकड़ होनी चाहिए।
  • पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स में एडमिशन लेने के लिए विद्यार्थी की उम्र 21 साल से ज्यादा होनी चाहिए।
  • कुछ पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स में एडमिशन लेने के लिए प्रवेश परीक्षा देना पड़ता है जबकि कुछ में डायरेक्ट एडमिशन हो जाता है।
  • कुछ पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आपका इंटरव्यू लिया जाता है। इंटरव्यू पास करने के बाद ही आपका वहाँ एडमिशन होता है।

भारत मे पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्सेज करने के लिए टॉप कॉलेज?

भारत मे पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्सेज करने के लिए कई सारे कॉलेज मौजूद हैं। कुछ महत्वपूर्ण और टॉप कॉलेजो के नाम निम्नलिखित हैं।

  • नेशनल लॉ स्कूल आफ इंडिया,
  • जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU)
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (IITs)
  • इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस (ISB)
  • नेशनल लॉ स्कूल ऑफ इंडिया यूनिवर्सिटी (NLSIU)
  • दिल्ली विश्वविद्यालय (DU)
  • ज़ेवियर लेबर रिलेशन्स इंस्टीटूट (XLRI)
  • जय नारायण व्यास यूनिवर्सिटी ऑफ जोधपुर
  • टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज़ (TISS)
  • लेडी श्री राम कॉलेज फॉर वुमेन
  • नेशनल लॉ स्कूल ऑफ इंडिया यूनिवर्सिटी (NLSIU)
  • श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स
  • इंस्टिट्यूट ऑफ़ होटल मैनेजमेंट कैटरिंग एंड न्यूट्रिशन
  • अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS)
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (IIMs)
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मास कम्युनिकेशन
इसको भी पढ़े-   2023 में जाति प्रमाण पत्र कितने साल तक चलता है?

पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स करने के फायदे | Post Graduation Course Karne Ke Fayde?

पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स करने के फायदे बहुत सारे हैं। कुछ महत्वपूर्ण फायदे निम्नलिखित हैं।

  • पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स करने के बाद आपको जो मास्टर की डिग्री मिलती है। आप उस डिग्री की मदद से कई सारे सरकारी और प्राइवेट विभाग में नौकरी पा सकते हैं।
  • पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स करने से आपके व्यक्तिगत विकास काफी होता है क्योंकि पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स करने से आपके ज्ञान और कौशल में वृद्धि होती है।
  • भारत सरकार समय समय कई सारी उच्च पदों पर सरकारी भर्तियां निकालती रहती है। जिसमे आवेदन करने के लिए पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री की जरूरत होती है। आप इन पदों में आवेदन करके उच्च कोटि की सरकारी नौकरी प्राप्त कर सकते हैं।
  • पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स करने से समाज मे आपका काफी सम्मान हो जाता है। समाज मे लोग आपको एक बहुत पढ़ा लिखा व्यक्ति के रूप में देखते हैं।
  • पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स करके आप एक उच्च कोटि के प्रोफेसर बन सकते हैं क्योंकि एक प्रोफेसर बनने के लिए आपके पास एक पोस्ट ग्रेजुएशन रहनी चाहिए।
  • कुछ पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स आपको विदेश में अध्ययन करने का अवसर प्रदान करते हैं। यह आपको विभिन्न संस्कृतियों को जानने और अंतरराष्ट्रीय अनुभव प्राप्त करने का अवसर प्रदान कर सकता है।

पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स की फीस कितनी होती है?

हर एक पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स की फीस अलग अलग होती है इसके साथ साथ पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स की फीस कॉलेज के ऊपर भी निर्भर करती है। जैसे की लखनऊ विश्वविद्यालय में एमए इतिहास की औसतन फीस 2000-5000 रुपये प्रति साल है, जबकि सेंट जवियर कॉलेज में एमए इतिहास की फीस 10,000-40,000 रुपये प्रति साल है।

कुछ महत्वपूर्ण और प्रसिद्ध पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स की अनुमानित फीस को हम यहाँ टेबल के माध्यम से शेयर करने जा रहें हैं। उम्मीद है की यह जानकारी आपके काम की होगी।

पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स का नाम औसतन प्रति साल की फीस
मास्टर ऑफ आर्ट्स (MA)₹10000- ₹30000 प्रति साल
मास्टर ऑफ फिलॉसॉफी (MPhil)₹2000- ₹100000 प्रति साल
मास्टर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (MBA)₹50000- ₹260000 प्रति साल
मास्टर ऑफ कॉमर्स (MCom)₹5000- ₹140000 प्रति साल
मास्टर ऑफ साइंस (Msc)₹25000- ₹70000 प्रति साल
मास्टर ऑफ लॉ (LLM)₹25000- ₹45000 प्रति साल
मास्टर ऑफ एजुकेशन (MEd)₹10000- ₹100000 प्रति साल
मास्टर ऑफ होटल मैनेजमेंट (MHM)₹30000- ₹200000 प्रति साल
मास्टर ऑफ फार्मेसी (MPharm)₹30000- ₹175000 प्रति साल
मास्टर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन (MCA)₹30000- ₹200000 प्रति साल
मास्टर ऑफ फिजिकल थेरेपी (MPT)₹40000- ₹200000 प्रति साल
मास्टर ऑफ एप्लाइड साइकोलॉजी (MAP)₹25000- ₹90000 प्रति साल
मास्टर ऑफ सोशल वर्क (MSW)₹10000- ₹200000 प्रति साल
मास्टर ऑफ सिविल इंजीनियरिंग (MCE)₹50000- ₹250000 प्रति साल

पोस्ट ग्रेजुएशन का कोर्स कैसे करें?

आप निम्नलिखित चरणों का पालन करके कोई भी पोस्ट ग्रेजुएशन का कोर्स कर सकते हैं।

  • पोस्ट ग्रेजुएशन का कोई भी कोर्स करने के लिए सबसे पहले आपको किसी भी मान्यता प्राप्त कॉलेज से स्नातक पास करना होगा।
  • इस बात का आपको खास ध्यान देना होगा कि पोस्ट ग्रेजुएशन का कोई भी कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आपका स्नातक में अच्छे अंक रहना चाहिए।
  • आप जिस 2 विषय मे स्नातक किया है उसमें से किसी एक विषय का चुनाव करके उसमें पोस्ट ग्रेजुएशन कर सकते हैं।
  • अपनी रुचि और करियर लक्ष्य के अनुसार पोस्ट ग्रेजुएशन के लिए विषय का चुनाव करने के बाद आपको एक बढ़िया कॉलेज का चुनाव करना होगा।
  • कुछ टॉप कॉलेजो के बारे में हमने आपको ऊपर बताया है। कॉलेज का चुनाव करने के बाद आपको उस कॉलेज के कैंपस में जाकर एडमिशन फॉर्म लेकर उसको भरकर जमा करना होगा।
  • एडमिशन फॉर्म जमा करने के बाद कॉलेज वाले आपके एडमिशन फॉर्म और अन्य डॉक्यूमेंट का रिव्यु करेगें। यदि सब कुछ सही रहा तो उस कॉलेज में आपका एडमिशन हो जायेगा।
  • पोस्ट ग्रेजुएशन के लिए कॉलेज में एडमिशन लेने के बाद आपको कड़ी मेहनत और लगन के साथ पढ़ाई करनी होगी।
  • यदि आप सफलतापूर्वक पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरा कर लेते है तो आपको पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री मिल जाती है। आप अपने पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री का उपयोग कई सारी जगहों पर कर सकते हैं।
इसको भी पढ़े-   बीटीसी करने के फायदे: बीटीसी क्या होता है, योग्यता और फीस?

क्या पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई के लिए स्कॉलरशिप मिलता है?

हाँ, पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई के लिए स्कॉलरशिप मिलता है। भारत में कई सारे सरकारी और गैर-सरकारी कॉलेज हैं जो विद्यार्थियों को पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई के लिए छात्रवृत्तियाँ प्रदान करते हैं। आप पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई के लिए जिस कॉलेज में एडमिशन लेने जा रहे हैं वहाँ के आफिस में जाकर स्कॉलरशिप को लेकर सही और सटीक जानकारी ले सकते हैं।

पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद किस फील्ड में नौकरी मिलती है?

पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद आपको कई सारी जगहों पर उच्च कोटि की हाई सैलरी वाली नौकरी मिल सकती है। पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद आपको निम्नलिखित जगहों पर नौकरी मिल सकती है।

  • इंडियन रेलवे में
  • इंडियन पुलिस सर्विस में
  • मेडिकल के फील्ड में
  • एजुकेशन के फील्ड में
  • फाइनेंस के फील्ड में
  • मीडिया के फील्ड में
  • इंडियन फॉरेन सर्विस में
  • इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस में
  • ओ.एन.जी.सी. में
  • बैंकिंग के फील्ड में
  • इंडियन ऑयल में
  • एन.टी.पी.सी. में
  • सरकारी बिजली विभाग में
  • गवर्नमेंट रोड ट्रांसपोर्ट में
  • इंडियन आर्मी में
  • संगीत के फील्ड में
  • साहित्य के फील्ड में
  • विज्ञान और तकनीक के फील्ड में
  • इंजीनियरिंग की फील्ड में
  • टेक्नोलॉजी की फील्ड में
  • व्यावसायिक और वित्तीय सेवाएं में

पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद कौन सी नौकरी मिलती है?

आप जिस फील्ड में पोस्ट ग्रेजुएशन करते है उसी तरह की नौकरी आपको मिलती है। पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद आपको निम्नलिखित नौकरियां मिल सकती है।

  • सॉफ्टवेयर इंजीनियर
  • सिस्टम इंजीनियर
  • पुलिस की नौकरी
  • इंडियन आर्मी की नौकरी
  • रेलवे में नौकरियां
  • बैंक में नौकरी
  • सेना में नौकरी
  • मीडिया में नौकरी
  • डेटा साइंटिस्ट
  • प्रोडक्ट मैनेजर
  • प्रोजेक्ट मैनेजर
  • बिज़नेस एडमिनिस्ट्रेटर
  • मार्केटिंग मैनेजर
  • फाइनेंस मैनेजर
  • ऑपरेशन्स मैनेजर
  • मानव संसाधन मैनेजर
  • डॉक्टर
  • नर्स
  • फार्मासिस्ट
  • दंत चिकित्सक
  • पशु चिकित्सक
  • सॉफ्टवेयर डेवलपर
  • मोबाइल एप्लिकेशन डेवलपमेंट
  • डेटा साइंटिस्ट
  • कंप्यूटर नेटवर्क इंजीनियर
  • कंप्यूटर सिक्योरिटी इंजीनियर
  • वकील
  • न्यायाधीश
  • सरकारी वकील
  • कानूनी सलाहकार
  • शिक्षक
  • शोधकर्ता
  • प्रशासक
  • वैज्ञानिक
  • इंजीनियर
  • शोधकर्ता
  • लेखक
  • कलाकार

पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद कितनी सैलरी वाली नौकरी मिलती है?

पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद मिलने वाली सैलरी आप किस फील्ड से पोस्ट ग्रेजुएशन कर रहे हैं इस बात पर निर्भर करता है। पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद कुछ महत्वपूर्ण फील्ड में कितनी औसतन सैलरी मिलती है इसके बारे में हम आपको टेबल के माध्यम नीचे बतानें जा रहे हैं।

फील्ड औसतन सैलरी
इंजीनियरिंग₹60,000-₹1,00,000 प्रति महीना
मेडिकल₹50,000-₹3,00,000 प्रति महीना
बिजनेस₹40,000-₹1,20,000 प्रति महीना
आईटी₹50,000-₹2,00,000 प्रति महीना
फाइनेंस₹40,000-₹1,50,000 प्रति महीना
तेल और गैस₹80,000-₹3,00,000 प्रति महीना

पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई के लिए सबसे बढ़िया देश कौन सा है?

दुनिया मे बहुत से ऐसे देश हैं जहाँ से आप पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई करके अपना एक बढ़िया कैरियर बना सकते हैं। पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई के लिए सबसे बढ़िया देश संयुक्त राज्य अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा और स्विट्ज़रलैंड को माना जाता हैं। इन देशों में पोस्ट ग्रेजुएशन की उच्च कोटि की शिक्षा विद्यार्थियों को प्रदान की जाती है।

ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन में क्या अंतर है?

ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन दोनों अलग-अलग तरह के कोर्स है। ग्रेजुएशन को स्नातक के नाम से भी जाना जाता है जबकि पोस्ट ग्रेजुएशन को मास्टर डिग्री के नाम से भी जाना जाता है।

ग्रेजुएशन का कोर्स आमतौर पर 12वीं पास करने के बाद किया जाता है। ग्रेजुएशन कोर्स की अवधि आमतौर पर 2-5 साल तक कि होती है।

वही पोस्ट ग्रेजुएशन का कोर्स आमतौर पर ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरा करने के बाद किया जाता है। ज्यादातर पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स की अवधि आमतौर पर 1-5 साल के बीच मे होती है।

ग्रेजुएशन कोर्स के कुछ उदाहरण बैचलर ऑफ आर्ट्स, बैचलर ऑफ साइंस, बैचलर ऑफ कॉमर्स हैं। इसके अलावा भी ग्रेजुएशन के बहुत सारे कोर्स होते हैं। वही पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स के कुछ उदाहरण मास्टर ऑफ आर्टस्, मास्टर ऑफ साइंस, मास्टर ऑफ कॉमर्स जैसे कोर्स हैं।

ग्रेजुएशन कोर्स करने के बाद आप शिक्षक, वकील, डॉक्टर, इंजीनियर, और अकाउंटेंट जैसी उच्च कोटि की हाई सैलरी वाली नौकरियां पा सकते हैं।

जबकि पोस्ट ग्रेजुएशन का कोर्स करने के बाद आप शोधकर्ता, प्रोफेसर, चिकित्सक, और प्रबंधक जैसी उच्च कोटि का और बेहतरीन करियर बना सकते हैं।

निष्कर्ष:

ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरा करने के बाद पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री लेना आपके लिए एक बढ़िया विकल्प हो सकता है। पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री लेने के बाद आप कई सारी सरकारी और प्राइवेट विभाग में अपना एक उच्च कोटि का करियर बना सकते हैं इसके अलावा आप विदेशो में भी जाकर एक उच्च कोटि का का जॉब लेकर मोटा पैसा कमा सकते हैं।

इस पूरे लेख को पढ़ने आपको पोस्ट ग्रेजुएशन क्या होता है, पोस्ट ग्रेजुएशन कितने प्रकार के होते हैं, पोस्ट ग्रेजुएशन के अंदर कौन कौन से कोर्स आते हैं और भारत मे पोस्ट ग्रेजुएशन करने के लिए टॉप कॉलेज जैसी कई महत्वपूर्ण चीज़ो के बारे उच्च कोटि का ज्ञान हो गया होगा। इस पूरे आर्टिकल को पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद!

मेरा नाम सद्दाम हुसैन है और मैं इस ब्लॉग का फाउंडर और कंटेंट राइटर हूँ। इस ब्लॉग पर मैं एजुकेशन, सरकारी नौकरी, जॉब, कैरियर, बिजनेस, कोर्सेज और सेलेबस से रिलेटेड हर नई और महत्वपूर्ण लेख को रेगुलर बेसिक पर प्रकाशित करता रहता हूँ।

Leave a Comment

error: Content is protected !!