ANM Course Details in Hindi: ANM क्या होता है? पूरी जानकारी

इस लेख की रूपरेखा:

ANM Course Details in Hindi: यदि आप एक ऐसे विद्यार्थी जिनको मेडिकल और नर्सिंग के फील्ड में रुचि है। तो आपने कही ना कही ANM के बारे में जरूर सुना होगा।

ANM एक ऐसा कोर्स है जिनको करके आप स्वास्थ्य सेवाओं में अपना एक बेहतरीन करियर बना सकते है। ANM के कोर्स में विद्यार्थियों को स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं का समाधान करने के बारे में ज्ञान दिया जाता है।

आज हम इस आर्टिकल में ANM Course Details in Hindi के बारे में हर एक जरूरी चीज़ को विस्तार से जानने की कोशिश करेगें। इस आर्टिकल में हम आपके साथ ANM क्या होता है, ANM कोर्स में एडमिशन योग्यता, ANM कोर्स की फीस, ANM के लिए बेस्ट कॉलेज, ANM करने के फायदे, ANM कोर्स के बाद जॉब और ANM के बाद मिलने वाली सैलरी जैसी चीज़ों को बतायेगें।

ANM कोर्स क्या होता है | ANM Course Kya Hota Hai

ANM Course Kya Hota Hai

ANM का मतलब एक्सिल्यरी नर्सिंग मिडवाइफरी होता है। ANM नर्सिंग का एक डिप्लोमा कोर्स होता है। ANM कोर्स का मुख्य उद्देश्य महिलाओं के स्वास्थ्य, गर्भावस्था और बच्चे की देखभाल करना होता है। ANM एक 2 साल का कोर्स होता है। कोई भी 12वीं पास विद्यार्थी ANM का कोर्स करके मेडिकल और नर्सिंग के फील्ड में अपना कैरियर बना सकता है।

ANM कोर्स में विद्यार्थियों को नर्सिंग, सामाजिक विज्ञान, जनसंख्या शिक्षा, सामाजिक मानसिक स्वास्थ्य, जन्मसंबंधी ज्ञान, बच्चे की देखभाल, इंफेक्शन कंट्रोल, दवाओं की जानकारी, प्राथमिक चिकित्सा, गर्भावस्था में देखभाल, बाल और प्रसूति देखभाल, नर्सिंग की देखभाल और स्वास्थ्य संगठन के बारे में उच्च कोटि का ज्ञान दिया जाता है।

ANM कोर्स की पढ़ाई पूरा करने के बाद विद्यार्थियों को अस्पतालों, नर्सिंग होमों, स्वास्थ्य केंद्रों, गर्भावस्था केंद्रों, नगर निगमों, औद्योगिक क्षेत्रों और स्वास्थ्य मंत्रालय में जॉब मिलने की संभावना काफी बढ़ जाती है।

इसको भी पढ़ें = अगर आप रिलेशनशिप, इन्टरनेट, बिज़नस, पैसे कमाए. ब्लॉग्गिंग से सम्बंधित इनफार्मेशन पढना चाहतें है तो आप बेस्ट हिंदी ब्लॉग एनएस आर्टिकल का उपयोग कर सकतें है 

ANM कोर्स क्यों करना चाहिये?

ANM कोर्स करने के कई सारे कारण है। इसके कुछ महत्वपूर्ण कारणों को हम यहाँ शेयर कर रहे है। इनको जानने के बाद आपको एक आईडिया लग जायेगा कि आपको ANM कोर्स क्यों करना चाहिए।

  • ANM कोर्स को पूरा करने बाद आपको स्वास्थ्य सेक्टर में विभिन्न प्रकार के रोजगार के अवसर मिलते है। एक नर्स के रूप में, आप अस्पताल, क्लिनिक और नर्सिंग होम में बेहतरीन जॉब पा सकते है।
  • ANM कोर्स की अवधि केवल 2 साल होती है। आप केवल 2 सालो में ANM कोर्स करके अपना नर्सिंग के फील्ड में एक बढ़िया करियर बना सकते है।
  • ANM कोर्स में विद्यार्थियों को व्यापक प्रशिक्षण दिया जाता है। ANM कोर्स करने के बाद आप स्वास्थ्य सेवा, रोगी देखभाल और चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे कामों में एक्सपर्ट बन जाते है।
  • ANM कोर्स आपको सीधे मरीजों के साथ अनुभव करने का मौका देता है। ANM नर्स के रूप में आपका मुख्य काम मूलभूत स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करना, दवाइयाँ देना और विभिन्न चिकित्सा प्रक्रियाओं में डॉक्टरों की सहायता करना होता है। एक नर्स के रूप में मरीजों की सहायता करना काफी संतुष्टिकरण और प्रशंसा वाला कार्य होता है।
  • ANM कोर्स के बाद आप और उच्च शिक्षा की ओर कदम रख सकते है। ANM कोर्स करने के बाद आप बाल नर्सिंग, मनोरोग नर्सिंग या क्रिटिकल केयर नर्सिंग जैसे विशेष नर्सिंग फील्ड में पढ़ाई करके उसका एक्सपर्ट बन सकते है।

ANM का फुल फॉर्म क्या होता है | ANM Full Form In Hindi

ANM का फुल फॉर्म Auxiliary Nursing Midwifery होता है। ANM कोर्स स्वास्थ्य सेवा के फील्ड में एक प्रमाणित नर्सिंग कोर्स है। ANM कोर्स का मुख्य उद्देश्य स्वास्थ्य सेवा के साथ-साथ मातृत्व और शिशु की देखभाल को बढ़ावा देना होता है।

इसको भी पढ़े-   BSMS Course Details in Hindi: BSMS क्या होता है? सब कुछ जाने

ANM कोर्स विद्यार्थियों को आवश्यक नर्सिंग कौशलों, सामुदायिक स्वास्थ्य और मातृत्व-शिशु की देखभाल में प्रशिक्षित करता है। ANM कोर्स करने के बाद विद्यार्थी अस्पताल, क्लिनिक और नर्सिंग होम जैसे जगहों पर जॉब पा सकते है।

ANM कोर्स कितने साल का होता है | ANM Course Duration

एक्सिल्यरी नर्सिंग मिडवाइफरी (ANM) आमतौर पर 2 साल का कोर्स होता है। ANM कोर्स को खत्म करने के बाद 6 महीने का इंटर्नशिप भी करना पड़ता है। ANM कोर्स विद्यार्थियों को स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में नर्सिंग कौशल का प्रशिक्षण देता है। यदि आपको मेडिकल फील्ड में रुचि है तो आप ANM कोर्स करने के बाद भारत के साथ साथ विदेशों में भी जॉब पाकर अपना एक बेहतरीन करियर बना सकते है।

ANM कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आयु सीमा?

ANM कोर्स में एडमिशन लेने के लिए विद्यार्थी की न्यूनतम उम्र 17 साल और अधिकतम उम्र 35 साल होना चाहिए। भारत में कई सारे कॉलेज और संस्थान है जहाँ पर ANM कोर्स में एडमिशन लेने के लिए कोई भी आयु सीमा की जरूरत नही होती है। किसी भी उम्र के विद्यार्थी उन कॉलेज और संस्थानों में एडमिशन ले सकते है। यदि आपको स्वास्थ्य सेवा में दिलचस्पी है तो आप ANM कोर्स करके अपना एक बढ़िया करियर बना सकते है।

ANM कोर्स में एडमिशन के लिए योग्यता | Anm Course ke liye Qualification

ANM कोर्स के लिए निम्नलिखित योग्यता की आवश्यक होती है। जिसके बारे में हम यहाँ नीचे शेयर कर रहे है। उम्मीद है ये जानकारी आपको पसंद आयेगी।

  • ANM कोर्स में एडमिशन लेने के लिए उम्मीदवार भारत का नागरिक होना चाहिए।
  • किसी भी कॉलेज या संस्थान में ANM कोर्स में एडमिशन लेने के लिए उम्मीदवार की उम्र न्यूनतम 17 साल और अधिकतम 35 साल होना चाहिए।
  • ANM कोर्स में एडमिशन लेने के लिए उम्मीदवार मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12वीं साइंस स्ट्रीम से अच्छे अंक के साथ पास होना चाहिए।
  • उम्मीदवार को स्वास्थ्य सेवा में रुचि होनी चाहिए और उसको मानसिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ होना चाहिए।
  • उम्मीदवार के अंदर अच्छी भाषा कौशल और संचार क्षमता होनी चाहिए

भारत मे ANM कोर्स की फीस कितनी होती है? | ANM Course Ki Fees

भारत में हर एक कॉलेज और संस्थानों में ANM कोर्स की फीस अलग अलग होती है। सरकारी कॉलेजो में फीस कम होती है वही प्राइवेट कॉलेज में फीस सरकारी कॉलेजो की अपेक्षा ज्यादा होती है।

सरकारी कॉलेजो में ANM कोर्स की फीस 10000 से 20000 हजार रुपये प्रति साल तक हो सकता है वही प्राइवेट कॉलेजो में औसत ANM कोर्स की फीस ₹50000 से ₹70000 हजार रुपये प्रति साल तक हो सकती है।

आप जहाँ से ANM कोर्स में एडमिशन ले रहे हैं उसके ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर ANM कोर्स की फीस के बारे में सही और सटीक जानकारी प्राप्त कर सकते है।

एएनएम कोर्स का सिलेबस | ANM Course Syllabus in Hindi

ANM Course Syllabus in Hindi

हमने आपको ऊपर पहले ही बताया है कि ANM 2 साल का कोर्स होता है। इन 2 सालो में विद्यार्थियों को क्या क्या पढ़ाया जाता है उसके बारे में यहाँ हम आपको बताने जा रहे हैं। इनको जानने के बाद आपको ANM Course Syllabus in Hindi के बारे में अच्छी जानकारी हो जायेगी।

ANM 1st Year Syllabus

  • बाल स्वास्थ्य एवं नर्सिंग 1
  • स्वास्थ्य संवर्धन एवं पोषण
  • सामुदायिक स्वास्थ्य और नर्सिंग
  • प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल नर्सिंग 1
  • रोगों की रोकथाम और स्वास्थ्य की बहाली
  • आंतरिक/प्रसव कक्ष
  • पर्यावरण स्वच्छता
  • प्रसवोत्तर देखभाल
  • नवजात देखभाल इकाई

ANM 2nd Year Syllabus

  • दाई का काम सिद्धांत
  • स्वास्थ सेवा प्रबंधन
  • दाई का काम प्रैक्टिकल
  • बाल स्वास्थ्य एवं स्वास्थ्य नर्सिंग 2
  • स्वास्थ्य केंद्रीय प्रबंधन सिद्धांत
  • स्वास्थ्य केंद्रीय प्रबंधन प्रैक्टिकल
  • एनेटनल वार्ड

ANM में कितने सब्जेक्ट होते है?

ANM कोर्स में कई सारे सब्जेक्ट होते है जिनको विद्यार्थी ANM कोर्स के समय सीखते है। ANM कोर्स के सभी सब्जेक्ट को हम आपके साथ यहाँ पर शेयर कर रहे है।

  • सामुदायिक स्वास्थ्य नर्सिंग
  • बाल स्वास्थ्य नर्सिंग
  • इंफेक्शन और टीकाकरण
  • संक्रामक रोग
  • मानव शरीर एवं स्वच्छता
  • मानसिक स्वास्थ्य
  • दाई का काम
  • प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल नर्सिंग
  • प्राथमिक उपचार और रेफरल
  • पर्यावरण स्वच्छता
  • पोषण
  • सामुदायिक स्वास्थ्य और स्वास्थ्य देखभाल प्रबंधन

ANM कोर्स के लिए सबसे बेस्ट बुक्स कौन से है

यहाँ हम आपके साथ ANM कोर्स के लिए सबसे बेस्ट बुक्स को बताने जा रहे हैं। ANM की पढ़ाई आप इन बुक्स की मदद से पूरा कर सकते है। इसके साथ साथ आप इन बुक्स की मदद से कोई भी एंट्रेंस एग्जाम को भी पास कर सकते है।

  • ऐ क्लीनिकल केस रिकॉर्ड फ़ॉर मिद्विवेस
  • नर्सिंग रिसर्च एंड स्टेटिस्टिक्स
  • मैन्युअल ऑफ क्लीनिकल ऑन्कोलॉजी
  • मिडवाइफरी नर्सिंग प्रैक्टिकल
  • फंडामेंटल्स ऑफ नर्सिंग
  • टेक्स्टबुक ऑफ एडवांस्ड नर्सिंग प्रैक्टिस
  • कंप्रेहँसीवे गाइड फ़ॉर नर्सिंग कंपटीटिव एग्जाम

ANM कोर्स के लिए भारत के बेस्ट कॉलेज?

ANM कोर्स के लिए भारत के बेस्ट कॉलेज

भारत मे बहुत से कॉलेज हैं जहाँ से आप ANM की उच्च कोटि की शिक्षा ले सकते है। यहाँ हम आपके साथ भारत में ANM कोर्स के लिए कुछ बेस्ट कॉलेजो की सूची को शेयर कर रहे है। इन सभी कॉलेजो में विद्यार्थियों को उच्च कोटि की शिक्षा प्रदान की जाती है।

  • ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंस दिल्ली
  • बरेली इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी
  • क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज तमिलनाडु
  • कैलाश इंस्टिट्यूट ऑफ नर्सिंग एंड पैरा मेडिकल साइंस, उत्तर प्रदेश
  • असम डाउन टाउन यूनिवर्सिटी, असम
  • विवेकानंद कॉलेज ऑफ़ नर्सिंग लखनऊ
  • भावा इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस एंड रिसर्च
  • राजीव गांधी पैरामेडिकल इंस्टीट्यूट दिल्ली
  • अपोलो स्कूल ऑफ नर्सिंग दिल्ली
  • साईं इंस्टिट्यूट ऑफ़ नर्सिंग, देहरादून
  • अहिल्याबाई कॉलेज ऑफ नर्सिंग दिल्ली
  • राजीव गाँधी पैरामेडिकल कॉलेज, दिल्ली
  • एलीजाबेथ इंस्टीट्यूट ऑफ नर्सिंग, दिल्ली
  • अचार्या इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ साइंस, हरियाणा
  • श्री गुरु राम राय विश्वविद्यालय, देहरादून
  • इंदिरा गांधी स्कूल और नर्सिंग कॉलेज
  • अर्मी कॉलेज ऑफ नर्सिंग, दिल्ली
  • बाबा फारूखशाह नर्सिंग कॉलेज, उत्तर प्रदेश
  • विनायक मिश्रा स्मृति नर्सिंग कॉलेज, मध्य प्रदेश
  • संख्या नर्सिंग कॉलेज, तमिलनाडु
  • बीजेएम नर्सिंग कॉलेज, कर्नाटक
  • गुजरात नर्सिंग कॉलेज, गुजरात
  • जोधपुर नर्सिंग कॉलेज, राजस्थान
इसको भी पढ़े-   DCA Karne Ke Fayde: डीसीए कोर्स क्या होता है? पूरी जानकारी

ANM कोर्स के लिए प्रवेश प्रक्रिया क्या होती है?

यदि आप भी ANM कोर्स के लिए प्रवेश प्रक्रिया को जानना चाहते है तो आप एकदम सही जगह पर है। यहाँ हम आपको स्टेप बॉय स्टेप प्रवेश प्रक्रिया को बतायेगें। उम्मीद है ये जानकारी आपके लिए उपयोगी होगी।

  • सबसे पहले आप जिस कॉलेज या संस्थान में ANM कोर्स के लिए एडमिसन लेना चाहते है उसके आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं और ANM कोर्स के लिए आवेदन करें। आवेदन पत्र में जो जो जानकारी मांगी जाये उसको सही सही भरकर सबमिट कर दे।
  • एडमिसन के लिए आवेदन करने के बाद आपको प्रवेश परीक्षा में भाग लेना होगा। यह प्रवेश परीक्षा आपकी क्षमता और योग्यता का मापदंड करता है।
  • प्रवेश परीक्षा के परिणाम के आधार पर, संस्थान या कॉलेज मेरिट लिस्ट निकलती है। यदि आपका नाम मेरिट लिस्ट में आ जाता है तो आपको ANM कोर्स में प्रवेश मिल जायेगा।
  • प्रवेश प्रक्रिया के समय, आपको अपने प्रमाणपत्रों, आधार कार्ड, पासपोर्ट आदि की प्रमाणित प्रतिलिपि सबमिट करनी होगी।

हमने जो प्रवेश प्रक्रिया बताया है वह लगभग सभी जगह पर एक ही जैसा होता है। लेकिन इसमे थोड़ी विविधता भी हो सकती है। इसलिए आप जिस कॉलेज या संस्थान में एडमिशन ले रहे है उसके आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर विस्तृत जानकारी प्राप्त कर सकते है।

ANM कोर्स करने के महत्वपूर्ण फायदे | ANM Karne Ke Fayde?

ANM कोर्स करने के कई सारे फायदे है। इसके कुछ महत्वपूर्ण फायदे को यहाँ हम शेयर कर रहे है। उन फायदे को जानने के बाद आपका भी मन ANM कोर्स करने का हो जायेगा। उम्मीद है ये जानकारी आपको पसंद आयेगी।

  • ANM कोर्स करने के बाद आपके अंदर सेवा भावना को विकसित होती है। क्योंकि आपको लोगो की मदद करने का अवसर मिलता है। ANM के बाद आप स्वास्थ्य सेवाओं के माध्यम से लोगो की मदद कर सकते है।
  • ANM कोर्स करने के बाद आपको अस्पताल, क्लिनिक, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, नर्सिंग होम और अन्य संबंधित संस्थानों में रोजगार के कई महत्वपूर्ण अवसर मिलते है। ANM के बाद आप स्वास्थ्य सेवाओं में बढ़िया करियर बना सकते है।
  • ANM कोर्स करने के बाद आप गांवों में स्वास्थ्य कंपेंडस, जागरूकता कार्यक्रम और सामुदायिक स्वास्थ्य शिविरों का आयोजन करके लोगो को स्वास्थ्य सेवा प्रदान कर सकते है।
  • ANM कोर्स करने के बाद आपकी कॉम्युनिकेशन स्किल काफी अच्छी हो जाती है। जो आपके आने वाले जीवन मे काफी काम आती है।
  • ANM कोर्स के माध्यम से, आप अपने शैक्षिक और व्यावसायिक विकास को बढ़ा सकते हैं। यह कोर्स आपको नर्सिंग के क्षेत्र में एक्सपर्ट बना देता है। जिसके कारण आपके सामने रोजगार के कई सारे अवसर खुल जाते है।

ANM कोर्स के करने के बाद कौन कौन सी नौकरियां मिल सकती है?

ANM कोर्स के करने के बाद आपको कई सारे पदों पर उच्च कोटि की हाई सैलरी वाली नौकरियां मिल सकती हैं। ANM कोर्स के करने के बाद मिलने वाले कुछ महत्वपूर्ण नौकरियों को यहाँ हम शेयर कर रहे हैं। ANM कोर्स में एडमिशन लेने से पहले आपको इन नौकरियों को जानना जरूरी है।

  • कम्युनिटी हेल्थ वर्कर
  • प्रमाणित नर्सिंग सहायक
  • दाई
  • होम नर्स
  • कम्युनिटी हेल्थ वर्कर
  • स्कूल की नर्स
  • आईसीयू नर्स
  • सैन्य नर्स
  • सरकारी स्वास्थ्य कर्मचारी
  • अस्पताल नर्स
  • सरकारी नर्स
  • चिकित्सा सहायक
  • स्वास्थ्य कार्यकर्ता
  • जनसंचार कर्मी
  • सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में कार्यकर्ता
  • नर्सिंग होम
  • आईसीयू नर्स
  • जनसंख्या कार्यकर्ता
  • स्वास्थ्य अनुसंधानकर्ता
  • योगा और प्राकृतिक चिकित्सा
  • आरोग्य शिविर कार्यकर्ता
  • स्वास्थ्य शिक्षक
  • ग्रामीण स्वास्थ्य सेवाएं
  • ग्रामीण स्वास्थ्य केंद्र

ANM कोर्स करने के बाद कितनी सैलरी मिलती है | ANM Ke Baad Salary?

किसी भी जॉब की सैलरी कई सारे बातों पर निर्भर करता है जैसे कि काम करने के स्थान, अनुभव, सरकारी या निजी सेक्टर में नौकरी, और संबंधित संगठन की नीतियों उनमे से मुख्य है।

यदि ANM कोर्स करने के बाद आपकी जॉब सरकारी विभाग में लगता है तब आपको औसत शुरुआती सैलरी 20000 से 30000 हजार रुपये महीने तक मिल सकता है। वही यदि आपका जॉब प्राइवेट सेक्टर में लगता है तब आपको शुरुआती सैलरी 10000 से 15000 हजार रुपये प्रति महीने तक मिल सकता है।

समय के साथ साथ अनुभव होने पर आपकी सैलरी प्राइवेट और सरकारी दोनों विभाग में बढ़ जायेगी। इसलिए आपको सैलरी को लेकर टेंशन नही लेना चाहिए। 3-4 साल का अनुभव होने पर यह सैलरी बहुत अधिक हो जायेगी।

ANM कोर्स करने के बाद आगे क्या क्या कर सकते हैं?

ANM कोर्स करने के बाद आगे के लिए आपके पास कई सारे विकल्प मौजूद है। यहाँ हम आपके साथ ANM कोर्स करने के बाद आगे के लिए कुछ संभावित विकल्पों को बताने जा रहा हूँ। उम्मीद है ये जानकारी आपके काम आयेगी।

1. बीएससी नर्सिंग: ANM कोर्स करने के बाद आप बीएससी नर्सिंग कोर्स कर सकते है। बीएससी नर्सिंग कोर्स करके आप अपनी शिक्षा को आगे तक ले जा सकते हैं और इसके साथ साथ आप विभिन्न स्वास्थ्य संबंधित नौकरियों के लिए योग्य हो सकते हैं।

2. एएचएम संघ की परीक्षा: ANM कोर्स करने के बाद आप आप एएचएम संघ की परीक्षा की तैयारी कर सकते है। आप एएचएम संघ परीक्षा की तैयारी करके एनएम के संबंधित नौकरियों के लिए सरकारी रूप से योग्यता प्राप्त कर सकते हैं।

इसको भी पढ़े-   ADCA Course Details: ADCA कोर्स क्या होता है? पूरी जानकारी?

3. सरकारी नौकरी: भारत सरकार हर साल अस्पतालों, स्वास्थ्य विभागों, और संबंधित सरकारी विभागों में स्वास्थ्य सेवा के पदों के लिए भर्ती निकालती रहती है। आप इन भर्तियो में आवेदन करके अपने लिए एक सरकारी नौकरी ले सकते है। ANM कोर्स करने के बाद यह भी एक बढ़िया विकल्प है।

4. वैज्ञानिक अध्ययन: ANM कोर्स करने के बाद आप वैज्ञानिक अध्ययन करके और अपनी अध्ययन और अनुसंधान क्षमता को और अधिक विकसित कर सकते है। जिसकी वजह से आपको स्वास्थ्य सेवाओं के क्षेत्र में योग्यता प्राप्त हो सकता है।

5. स्वास्थ्य संगठनों में प्रबंधक: ANM कोर्स करने के बाद स्वास्थ्य संगठनों में प्रबंधक पदों पर निकलने वाले भर्तियो के लिए आवेदन कर यह बेहतरीन नौकरी ले सकते है।

6. अपना व्यवसाय: ANM कोर्स करने के बाद आप अपना खुद का स्वास्थ्य संबंधित व्यवसाय शुरू कर सकते हैं। आप स्वास्थ्य संगठन, निजी नर्सिंग सेवा और आरोग्य केंद्र जैसा व्यवसाय शुरू करके खुद के मालिक बन सकते हैं।

यहाँ हमने जितने भी विकल्पों को बताया है आप उनमे से अपनी रुचि और करियर लक्ष्यों के आधार पर किसी एक का चुनाव कर सकते है। मुझे पूरी उम्मीद है कि ये जानकारी आपको पसंद आई होगी।

ANM के बाद कौन सा कोर्स करना चाहिए?

ANM की पढ़ाई पूरा करने के बाद आपको आगे की पढ़ाई के लिए कई सारे विकल्प मौजूद हैं। कुछ महत्वपूर्ण विकल्प निम्नलिखित हैं।

  • जीएनएम (जनरल नर्सिंग एंड मिडवाइफरी)
  • बीएससी इन नर्सिंग
  • M.Sc. Nursing
  • बीएससी ऑनर्स इन नर्सिंग
  • पोस्ट बेसिक बीएससी इन नर्सिंग
  • मास्टर ऑफ साइंस इन नर्सिंग
  • मेडिकल प्रयोगशाला प्रौद्योगिकी में डिप्लोमा
  • पीएचडी इन नर्सिंग
  • फार्मेसी में डिप्लोमा
  • फिजियोथेरेपी में डिप्लोमा
  • नर्सिंग में डॉक्टरेट डिग्री

ANM और GNM नर्सिंग में से कौन बेहतर है?

ANM और GNM दोनों ही एक महत्वपूर्ण नर्सिंग कोर्स हैं। आप अपनी रुचि और उद्देश्य के अनुसार किसी एक का चयन कर सकते है। यहां दोनों कोर्सों के बीच कुछ महत्वपूर्ण अंतर बताये गए है।

ANM कोर्स मुख्य रूप से महिलाओं के लिए डिज़ाइन किया गया है। ANM कोर्स के द्वारा आप मातृ देखभाल, नवजात शिशु की देखभाल, परिवार योजना, और स्वास्थ्य प्रमोशन के क्षेत्र में एक्सपर्ट बन सकते है।

GNM नर्सिंग पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए उपलब्ध है। GNM नर्सिंग कोर्स के माध्यम से आप विभिन्न विभागों में नर्सिंग के फील्ड में व्यापक ज्ञान और कौशल प्राप्त कर सकते हैं।

यदि आपकी रुचि मातृ और शिशु स्वास्थ्य, गर्भावस्था, और स्त्री स्वास्थ्य के फील्ड में है तो इस स्तिथी में ANM कोर्स आपके लिए बेहतर हो सकता है वही यदि आपको नर्सिंग के विभिन्न क्षेत्रों में अपना करियर बनाना है तो इस स्तिथी में GNM कोर्स आपके लिए बेहतर विकल्प हो सकता है।

निष्कर्ष:

इस लंबे आर्टिकल में हमने आपके साथ ANM Course Details in Hindi के बारे में काफी विस्तार से चर्चा किया है। ANM Course विद्यार्थियों को स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं का समाधान करने की क्षमता प्रदान करता है और साथ ही साथ उन्हें महिलाओं और बच्चों की देखभाल में नेतृत्व करने के लिए योग्य बनाता है।

यदि आप स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में अपना करियर बनाने की सोच रहे है, तो ANM कोर्स आपके लिए एक उपयोगी और रोमांचक करियर विकल्प हो सकता है। यदि आप ANM कोर्स के बारे में और अधिक जानना चाहते हैं तो आप अपने नजदीकी स्वास्थ्य संचालन अथवा नर्सिंग कॉलेज से संपर्क कर सकते हैं और वहां के अधिकारिकों से ANM कोर्स के बारे में सलाह ले सकते हैं।

ANM Course Details in Hindi के बारे में सामान्य प्रश्न?

ANM कोर्स के लिए योग्यता क्या होती है?

ANM कोर्स के लिए विद्यार्थि 12वीं साइंस स्ट्रीम से अच्छे अंक से पास होना चाहिए। इसके साथ साथ विद्यार्थियों की उम्र 17 से 35 साल के बीच मे होना चाहिए।

ANM कोर्स की अवधि क्या होती है?

ANM कोर्स की अवधि मुख्य रूम से 2 साल होती है। ANM कोर्स के 2 साल की पढ़ाई को पूरा करने के बाद अस्पतालों में 6 महीने का इंटर्नशिप भी करवाया जाता है।

ANM कोर्स का सिलेबस क्या होता है?

ANM कोर्स के सिलेबस में निम्नलिखित विषयों को पढ़ाया जाता है।

1. शिशु एवं नवजात संबंधित नियम
2. परिवार की स्वास्थ्य देखभाल
3. रोग प्रबंधन
4. प्राथमिक चिकित्सा
5. स्वास्थ्य विज्ञान
6. जनसंचार कौशल
7. पोषण और आहार
8. स्वास्थ्य शिक्षा एवं सामुदायिक स्वास्थ्य
9. मातृत्व एवं शिशु देखभाल
10. सामुदायिक स्वास्थ्य कार्य

ANM कोर्स के बाद क्या करियर विकल्प होते हैं?

ANM कोर्स के बाद आप सरकारी नर्स, चिकित्सा सहायक, स्वास्थ्य कार्यकर्ता, जनसंचार कर्मी, आईसीयू नर्स, आरोग्य शिविर कार्यकर्ता और स्वास्थ्य शिक्षक के रूप में अपना करियर बना सकते है।

ANM कोर्स की फीस कितनी है?

सरकारी कॉलेजों में ANM कोर्स की औसत फीस 10000 से 20000 हजार रुपये प्रति साल तक हो सकता है। वही प्राइवेट कॉलेजो में ANM कोर्स की औसत फीस 60000 से 70000 हजार रुपये प्रति साल तक हो सकता है।

क्या आर्ट्स साइड से पढ़ाई करने वाले ANM कोर्स कर सकते हैं?

हाँ, आर्ट्स साइड से पढ़ाई करने वाले स्टूडेंट भी ANM कोर्स कर सकते हैं। पहले केवल साइंस स्ट्रीम से पढ़ाई करने वाले विद्यार्थी ही ANM कोर्स कर सकते थे। लेकिन अब नियम बदल गया है। आज के समय मे आर्ट्स और वाणिज्य से 12वीं पास करने वाले विद्यार्थी भी ANM कोर्स कर सकते हैं।

क्या ANM कोर्स में एडमिसन लेने के लिए कोई प्रवेश परीक्षा होती है?

भारत के कुछ कॉलेजो में ANM कोर्स में एडमिसन लेने के लिए प्रवेश परीक्षा देना पड़ता है जबकि कुछ कॉलेजो में डायरेक्ट एडमिसन हो जाता है! आप जिस कॉलेज या संस्थान में एडमिसन लेने की सोच रहें है आप वहाँ जाकर इस बारे में सटीक जानकारी ले सकते है!

ANM कोर्स करने के बाद मैं विदेश में नौकरी के लिए आवेदन कर सकता हूँ?

हाँ, ANM कोर्स करने के बाद बाद आप विदेश में भी उच्च कोटि की हाई सैलरी वाली नौकरी पा सकते हैं क्योकि ANM कोर्स करने वाले लोगो का डिमांड पूरी दुनिया में रहता है!

ANM कोर्स करने के बाद मैं अपना खुद का व्यवसाय शुरू कर सकता हूँ?

हाँ, ANM कोर्स करने के बाद आप नर्सिंग होम, हेल्थकेयर कंसल्टेंसी, मेडिकल स्टोर और नर्सिंग ट्रेनिंग स्कूल के रूप में अपना खुद का व्यवसाय शुरू कर सकते हैं!

मेरा नाम सद्दाम हुसैन है और मैं इस ब्लॉग का फाउंडर और कंटेंट राइटर हूँ। इस ब्लॉग पर मैं एजुकेशन, सरकारी नौकरी, जॉब, कैरियर, बिजनेस, कोर्सेज और सेलेबस से रिलेटेड हर नई और महत्वपूर्ण लेख को रेगुलर बेसिक पर प्रकाशित करता रहता हूँ।

2 thoughts on “ANM Course Details in Hindi: ANM क्या होता है? पूरी जानकारी”

  1. Saddam Bhai app meri help kyu nahi rahe me apko kai email send kar chuka but ap reply nahi karte me bahut pareshan hu marne ka man kar raha

    Reply
  2. Attractive section of content I just stumbled upon your blog and in accession capital to assert that I get actually enjoyed account your blog posts Anyway I will be subscribing to your augment and even I achievement you access consistently fast

    Reply

Leave a Comment

error: Content is protected !!