PGDCA Karne Ke Fayde: PGDCA कोर्स क्या है? पूरी जानकारी

इस लेख की रूपरेखा:

आज के समय मे जिस तरह से टेक्नोलॉजी बढ़ रहा है वैसे वैसे कंप्यूटर कोर्स की भी मांग बढ़ती जा रही है। आज हम आपको एक ऐसे कंप्यूटर कोर्स के बारे में बताने जा रहे है जिसको करके आप अपना एक उच्च कोटि का करियर बना सकते हैं। इस कंप्यूटर कोर्स का नाम PGDCA है।

इस उच्च कोटि के लेख में हम आपको PGDCA क्या होता है, PGDCA Karne Ke Fayde, PGDCA कोर्स के लिए योग्यता, PGDCA कोर्स का सेलेबस, PGDCA कोर्स के लिए कॉलेज और PGDCA कोर्स की फीस के बारे में पूरे विस्तार से बतायेगें।

PGDCA क्या होता है | What is PGDCA in Hindi

PGDCA का फुल फॉर्म “Post Graduate Diploma in Computer Application” होता है। PGDCA एक उच्च कोटि का पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा कोर्स है। PGDCA कोर्स की अवधि आमतौर पर 1 साल की होती है।

PGDCA के कोर्स में स्टूडेंट को कंप्यूटर साइंस और इंजीनियरिंग के बुनियादी सिद्धांतों और अनुप्रयोगों के बारे में उच्च कोटि का ज्ञान प्रदान किया जाता है। भारत मे लोग आमतौर पर DCA डिप्लोमा कोर्स की पढ़ाई पूरा करने के बाद PGDCA कोर्स करते हैं।

PGDCA कोर्स करने के बाद आपको सॉफ्टवेयर डेवलपर, वेब डेवलपमेंट, सिस्टम एनालिस्ट, आईटी कंसलटेंट, नेटवर्क इंजीनियर जैसी पदों पर उच्च कोटि की हाई सैलरी वाली जॉब मिल सकती है।

यदि आप कंप्यूटर साइंस और इंजीनियरिंग के फील्ड में उच्च कोटि का करियर बनाना चाहते हैं तो इस स्तिथी में PGDCA कोर्स आपके लिए एक बेहतरीन विकल्प हो सकता है।

पीजीडीसीए करने के फायदे | PGDCA Karne Ke Fayde

यदि आप PGDCA कोर्स करने के बारे में सोच रहे है तो इस कोर्स को करने के फायदे के बारे में आपको पता होना चाहिए। PGDCA Karne Ke Fayde कई सारे हैं। इसके कुछ महत्वपूर्ण फायदे निम्नलिखित है।

  • PGDCA कोर्स करने के बाद स्टूडेंट को कंप्यूटर साइंस और इंजीनियरिंग के बारे में उच्च कोटि का ज्ञान हो जाता है।
  • इसके अलावा PGDCA कोर्स करने के बाद स्टूडेंट को कंप्यूटर सिस्टम, प्रोग्रामिंग भाषाएं, डेटाबेस, सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग, वेब डेवलपमेंट, कंप्यूटर नेटवर्किंग और कंप्यूटर सुरक्षा के बारे में भी काफी अच्छी जानकारी हो जाती है। यह भी एक बढ़िया PGDCA Karne Ke Fayde में से एक है!
  • PGDCA कोर्स करने के बाद स्टूडेंट को सॉफ्टवेयर डेवलपर, प्रोग्रामर, वेब डेवलपर, कंप्यूटर नेटवर्क इंजीनियर, कंप्यूटर सुरक्षा विशेषज्ञ, डेटा विश्लेषक और सिस्टम एडमिनिस्ट्रेटर जैसी उच्च कोटि की हाई सैलरी वाली जॉब मिल सकती है।
  • PGDCA कोर्स करने के बाद स्टूडेंट को एक उच्च कोटि का डिप्लोमा सर्टिफिकेट मिलता है। आप इस डिप्लोमा सर्टिफिकेट का उपयोग सरकारी और प्राइवेट नौकरी पाने के लिए कर सकते है।
  • PGDCA कोर्स करने के बाद जो जॉब स्टूडेंट को मिलता है। उन जॉब की सैलरी काफी ज्यादा होती है।
  • PGDCA कोर्स स्टूडेंट के विश्लेषणात्मक सोच के कौशल विकसित करने में भी मदद करता है। एक तरह से यह कोर्स स्टूडेंट के व्यक्तिगत विकास करने में मदद करता है। यह भी एक बढ़िया PGDCA Karne Ke Fayde में से एक है!
  • PGDCA कोर्स करने के बाद स्टूडेंट को कंप्यूटर सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर की काफी उच्च कोटि का ज्ञान हो जाता है। एक तरह से वह कंप्यूटर के एक्सपर्ट बन जाते हैं।
  • PGDCA कोर्स करने के बाद आप अपना खुद का बिजनेस भी शुरू करते सकते हैं। जैसे साइबर कैफे, कंप्यूटर शॉप और मोबाइल शॉप उनमे से मुख्य है।
  • PGDCA कोर्स करने के बाद आप ऑनलाइन सॉफ्टवेयर डिवेलपमेंट और अन्य काम करके काफी अच्छा पैसा घर बैठे कमा सकते हैं।
इसको भी पढ़े-   Arts Lene Ke Fayde: आर्ट्स लेने के क्या क्या फायदे हैं?

PGDCA कोर्स के लिए योग्यता | PGDCA Course Eligibility in Hindi

PGDCA कोर्स में एडमिशन लेने के लिए कई सारी योग्यता की जरूरत पड़ती है। इसके कुछ मुख्य योग्यता निम्नलिखित है।

  • PGDCA कोर्स में एडमिशन लेने के आवेदक भारत के किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से स्नातक पास होना चाहिए।
  • आवेदक का स्नातक में 50% से ज्यादा अंक होना चाहिए।
  • PGDCA कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आवेदक की उम्र 18 से 30 साल के बीच मे होनी चाहिए।
  • PGDCA कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आवेदक भारत का नागरिक होना चाहिए।
  • कुछ कॉलेजो में PGDCA कोर्स में एडमिशन मेरिट आधार पर होता है। जबकि कुछ जगहों पर प्रवेश परीक्षा के माध्यम से होता है।
  • प्रवेश परीक्षा को पास करने के बाद आवेदक का एक पर्सनल इंटरव्यू भी होता है।
  • पर्सनल इंटरव्यू पास करने के बाद ही उनका एडमिशन PGDCA कोर्स के लिए होता है।

पीजीडीसीए कोर्स का पाठ्यक्रम | PGDCA Course Syllabus in Hindi

PGDCA डिप्लोमा कोर्स 1 साल का होता है। 1 साल में 2 सेमेस्टर की पढ़ाई स्टूडेंट को करनी होती है। हर 1 सेमेस्टर 6-6 महीने का होता है। हर एक सेमेस्टर में क्या क्या पढ़ाया जाता है। उसके बारे में हम नीचे बताने जा रहे हैं। इसको पढ़ने के बाद आपको PGDCA Course Syllabus की काफी अच्छी जानकारी हो जायेगी!

सेमेस्टर- 1

  • सूचना प्रौद्योगिकी की मूल बातें
  • सी प्रोग्रामिंग
  • सॉफ्ट स्किल्स
  • डेटा संरचना और एल्गोरिदम
  • मैनेजमेंट और संगठनात्मक आचरण के सिद्धांत और बर्ताव
  • व्यावहारिक

सेमेस्टर – 2

  • दृश्य मूल बातें
  • मूल जावा
  • डेटाबेस प्रबंधन प्रणाली
  • सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग और व्यवसाय प्रक्रिया
  • आकाशवाणी
  • वेब डिजाइनिंग
  • व्यावहारिक

PGDCA कोर्स में कितने सब्जेक्ट होते है?

PGDCA कोर्स में कितने सब्जेक्ट होते है यदि आप यह जानना चाहते हैं तो आप सही जगह पर हैं। PGDCA कोर्स में कौन कौन से सुब्जेस्ट होते हैं उसके बारे में नीचे विस्तार से बता रहे हैं।

  • कंप्यूटर सिस्टम और संगठन
  • इंटरनेट और वेब प्रौद्योगिकी
  • डेटा विश्लेषण
  • माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस
  • ऑपरेटिंग सिस्टम
  • कंप्यूटर नेटवर्किंग
  • सूचना सुरक्षा
  • प्रोग्रामिंग भाषाएं
  • डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम
  • सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग
  • वेब डेवलपमेंट
  • कंप्यूटर एप्लीकेशन
  • व्यावसायिक नैतिकता
  • एडवांस प्रोग्रामिंग

PGDCA कोर्स के लिए भारत के टॉप कॉलेज?

यहाँ हम आपके साथ PGDCA कोर्स के लिए भारत के कुछ टॉप कॉलेजो को शेयर कर रहे हैं। आप इन कॉलेजो में PGDCA कोर्स के लिए उच्च कोटि की पढ़ाई कर सकते हैं।

  • जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
  • इंदिरा गांधी नेशनल ओपन विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
  • संजय गांधी पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ़ मेनेजमेंट, नई दिल्ली
  • स्टेट बैंक ऑफ इंडिया स्टाफ कॉलेज, हैदराबाद
  • गुरु गोबिंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय
  • अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय
  • बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी (BHU)
  • अलाहाबाद विश्वविद्यालय, इलाहाबाद
  • जमिया मिलिया इस्लामिया, नई दिल्ली
  • बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय, वाराणसी
  • ओस्मानिया विश्वविद्यालय, हैदराबाद
  • मद्रास क्रिस्चियन कॉलेज, चेन्नई
  • पुणे विश्वविद्यालय, पुणे
  • इलाहाबाद विश्वविद्यालय
  • दिल्ली विश्वविद्यालय

PGDCA कोर्स की फीस कितनी होती है | PGDCA Course Fees?

हर एक कॉलेज में PGDCA कोर्स की फीस अलग अलग होती है सरकारी कॉलेजो में फीस थोड़ा कम होता है जबकि प्राइवेट कॉलेजो में फीस थोड़ा ज्यादा होता है। अगर बात करें PGDCA कोर्स की औसतन फीस की तो वह ₹10000- ₹20000 तक हो सकती है।

PGDCA कोर्स के बाद किस किस सेक्टर में जॉब मिल सकता है?

PGDCA कोर्स के बाद आप निम्नलिखित सेक्टर में उच्च कोटि की हाई सैलरी वाली जॉब पा सकते हैं।

  • बैंकिंग
  • एडवरटाइजिंग
  • मीडिया हाउस
  • रिसर्च सेंटर
  • डेटा एंट्री
  • मैन्युफैक्चरिंग
  • रेलवे विभाग
  • ई-कॉमर्स वेबसाइट
  • आईटी सेक्टर
  • टेक्निकल सपोर्ट
  • कंप्यूटर एप्लीकेशन
इसको भी पढ़े-   रात को कितने बजे तक पढ़ना चाहिए: जानिये फायदे और नुकसान?

PGDCA कोर्स करने के बाद कौन सी नौकरी मिलती है | Job After PGDCA Course?

PGDCA कोर्स करने के बाद अलग अलग फील्ड में कई तरह की नौकरियां मिल सकती है। PGDCA कोर्स करने के बाद मिलने वाली कुछ महत्वपूर्ण नौकरियां निम्नलिखित हैं।

  • सॉफ्टवेयर डेवलपर
  • प्रोग्रामर
  • वेब डेवलपर
  • सिस्टम एनालिस्ट
  • आईटी कंसलटेंट
  • नेटवर्क इंजीनियर
  • कंप्यूटर नेटवर्क इंजीनियर
  • कंप्यूटर सुरक्षा विशेषज्ञ
  • डेटा विश्लेष
  • सिस्टम एडमिनिस्ट्रेटर
  • कंप्यूटर ऑपरेटर
  • डेटा एन्ट्री ऑपरेटर
  • ग्राफ़िक डिज़ाइनर
  • डेटाबेस एडमिनिस्ट्रेटर
  • सीओईओ (SEO) एक्सपर्ट
  • डिजिटल मार्केटिंग स्पेशलिस्ट
  • कंप्यूटर टीचर
  • सिस्टम एनालिस्ट
  • आईटी कंसलटेंट
  • नेटवर्क इंजीनियर

PGDCA कोर्स करने के बाद मिलने वाली जॉब में सैलरी कितनी मिल सकती है।

PGDCA कोर्स करने के बाद मिलने वाली जॉब में आपको शुरुआती औसतन सैलरी ₹30000- ₹40000 प्रति महीना तक मिल सकती है। यहाँ हम आपको कुछ महत्वपूर्ण पदों पर मिलने वाली शुरुआती औसतन सैलरी के बारे में बताने जा रहे हैं।

जॉब प्रति महीना सैलरी
सॉफ्टवेयर डेवलपर₹30,000- ₹60,000
प्रोग्रामर₹25,000- ₹45,000
सिस्टम एडमिनिस्ट्रेटर₹30,000- ₹50,000
वेब डेवलपर₹20,000- ₹35,000
कंप्यूटर सुरक्षा एक्सपर्ट₹40,000- ₹65,000
डेटा एनालिस्ट₹45,000- ₹75,000
कंप्यूटर नेटवर्क इंजीनियर₹35,000- ₹55,000

PGDCA कोर्स करने के बाद आगे कौन सा कोर्स करें?

PGDCA कोर्स करने के बाद आगे उच्च कोटि के पढाई के कई विकल्प मौजूद हैं! यहाँ हम आपके साथ कुछ महत्तपूर्ण कोर्सेज को बताने जा रहे हैं जिसको आप PGDCA कोर्स करने के बाद कर सकते हैं!

  • एमसीए (मास्टर ऑफ़ कंप्यूटर)
  • एमएससी (मास्टर ऑफ़ साइंस इन कंप्यूटर साइंस)
  • एमबीए (मास्टर ऑफ़ बिज़नेस एडमिनिस्ट्रेशन)
  • एमएस (मास्टर ऑफ़ साइंस) 
  • एलएलएम (मास्टर ऑफ़ लॉ)
  • डिप्लोमा इन सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट
  • डिप्लोमा इन वेब डेवलपमेंट
  • डिप्लोमा इन डेटा साइंस
  • डिप्लोमा इन क्लाउड कंप्यूटिंग
  • डिप्लोमा इन फाइनेंस
  • डिप्लोमा इन मार्केटिंग
  • डिप्लोमा इन डिजिटल मार्केटिंग
  • डिप्लोमा इन सोशल मीडिया मार्केटिंग
  • डिप्लोमा इन सोशल मीडिया मार्केटिंग

निष्कर्ष:

PGDCA एक कमाल का डिप्लोमा कोर्स है। जिसको करके आप उच्च कोटि की हाई सैलरी वाली जॉब पा सकते हैं। यदि आपको टेक फील्ड में रुचि है तो PGDCA कोर्स आपके लिए एक बेहतरीन विकल्प हो सकता है अपना करियर बनाने के लिए।

इस पूरे लेख को पढ़ने के बाद आपको PGDCA क्या होता है, PGDCA Karne Ke Fayde, PGDCA कोर्स के लिए योग्यता, PGDCA कोर्स का सेलेबस, PGDCA कोर्स के लिए कॉलेज और PGDCA कोर्स की फीस के बारे में काफी अच्छी जानकारी हो गई होगी।

यदि आपको यह लेख पसंद आया हो तो आप कमेंट के माध्यम से अपने विचार को हमारे साथ जरूर शेयर करें। इसके साथ साथ इस लेख को अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूले।

PGDCA Karne Ke Fayde के बारे में सामान्य प्रश्न-

PGDCA कितने साल का कोर्स है?

PGDCA कोर्स की अवधि आमतौर पर 1 साल की होती है।

PGDCA कोर्स में कौन-कौन से विषय पढ़ाए जाते हैं?

PGDCA कोर्स में स्टूडेंट को कंप्यूटर फंडामेंटल्स, प्रोग्रामिंग लैंग्वेजेस, डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम, ऑपरेटिंग सिस्टम, नेटवर्किंग और वेब डेवलपमेंट जैसी चीज़ों के बारे में उच्च कोटि का ज्ञान प्रदान किया जाता है।

PGDCA कोर्स के बाद रोजगार के अवसर क्या हैं?

PGDCA कोर्स करने के बाद आपको सॉफ्टवेयर डेवलपर, वेब डेवलपर, डेटाबेस एडमिनिस्ट्रेटर, नेटवर्क एडमिनिस्ट्रेटर और कंप्यूटर टीचर जैसे पदों पर उच्च कोटि की हाई सैलरी वाली जॉब मिल सकती है।

इसको भी पढ़े-   B.Ed करने के बाद कौन सा कोर्स करना चाहिए: टॉप 8 विकल्प?

PGDCA कोर्स के बाद आगे की पढ़ाई के क्या विकल्प हैं?

PGDCA का डिप्लोमा कोर्स करने के बाद आप आगे एमसीए, एमएससी या एम.टेक की पढ़ाई करके अपना एक बढ़िया करियर बना सकते हैं।

PGDCA कोर्स के बाद आप नौकरी के लिए कहां-कहां अप्लाई कर सकते हैं?

PGDCA कोर्स के बाद आप नौकरी के लिए सॉफ्टवेयर कंपनियों, आईटी कंपनियों, सरकारी विभागों और शिक्षण संस्थानों जैसी जगहों पर अप्लाई कर सकते हैं।

क्या मैं बीए के बाद PGDCA कोर्स कर सकता हूं?

हाँ, आप बीए के बाद PGDCA कोर्स कर सकते हैं। PGDCA कोर्स करने के लिए विद्यार्थी के पास किसी भी तरह की ग्रेजुएशन डिग्री होनी चाहिए!

मेरा नाम सद्दाम हुसैन है और मैं इस ब्लॉग का फाउंडर और कंटेंट राइटर हूँ। इस ब्लॉग पर मैं एजुकेशन, सरकारी नौकरी, जॉब, कैरियर, बिजनेस, कोर्सेज और सेलेबस से रिलेटेड हर नई और महत्वपूर्ण लेख को रेगुलर बेसिक पर प्रकाशित करता रहता हूँ।

Leave a Comment

error: Content is protected !!