ग्रेजुएशन करने के क्या फायदे हैं: ग्रेजुएशन क्या होता है?

यदि आप एक ऐसे विद्यार्थी हैं जो अभी 12वीं क्लास में हैं और आगे आप कोई भी ग्रेजुएशन कोर्स करने के बारे में सोच रहें हैं तो आपको ग्रेजुएशन करने के फायदे के बारे में अच्छी जानकारी होनी चाहिए।

इस बेहतरीन आर्टिकल में हम आपको ग्रेजुएशन क्या होता है, ग्रेजुएशन करने के फायदे, ग्रेजुएशन में कौन कौन से कोर्स आते हैं, ग्रेजुएशन के लिए योग्यता और ग्रेजुएशन के बाद आगे कौन सी पढ़ाई करें जैसी चीजों के बारे में विस्तार से बतायेगें। तो चलिए शुरू करते हैं।

ग्रेजुएशन क्या होता है | Graduation Kya Hota Hai

ग्रेजुएशन एक ऐसा कोर्स होता है जिसको विद्यार्थी 12वीं पास करने के बाद करते हैं। 12वीं के बाद कई तरह का ग्रेजुएशन का कोर्स होता है विद्यार्थी अपनी रुचि और कैरियर लक्ष्य के अनुसार अपने पसंदीदा ग्रेजुएशन कोर्स का चुनाव करते हैं।

कुछ महत्वपूर्ण ग्रेजुएशन कोर्स के उदाहरण बीए, बीएससी, बीसीए, बीकॉम, बीबीए और बीटेक हैं। कुछ ग्रेजुएशन कोर्स में एडमिशन डायरेक्ट हो जाता है जबकि कुछ में आपको एडमिशन लेने के लिए प्रवेश परीक्षा को पास करना पड़ता है।

12वीं के बाद किये जाने वाले ग्रेजुएशन को अन्य नामो से भी जाना जाता है जैसे स्नातक, बैचलर डिग्री, अंडर ग्रेजुएट डिग्री, पूर्व स्नातक डिग्री उनमे से मुख्य हैं। 12वीं के बाद किये जाने वाले ज्यादातर ग्रेजुएशन कोर्स की अवधि आमतौर पर 3-5 साल तक होती हैं।

जब आप 12वीं के बाद किसी भी तरह का कोई ग्रेजुएशन कोर्स कर लेते हैं तो उसके बाद आपको एक डिग्री मिलती है। आप उस डिग्री का उपयोग कई सारी प्राइवेट और सरकारी नौकरियां पाने के लिए कर सकते हैं।

ग्रेजुएशन करने के फायदे | Graduation Karne Ke Fayde

ग्रेजुएशन का कोई भी कोर्स करने के फायदे बहुत सारे हैं। ग्रेजुएशन करने के कुछ महत्वपूर्ण फायदे को हम यहाँ शेयर करने जा रहें हैं। इनको पढ़ने के बाद आपको ग्रेजुएशन करने के फायदे के बारे में काफी अच्छी जानकारी हो जायेगी।

  • ग्रेजुएशन का कोई भी कोर्स करने के बाद आपको विभिन्न क्षेत्रों में में जॉब पाने के बेहतरीन अवसर मिलते हैं। ग्रेजुएशन करने के बाद आप व्यवसाय, इंजीनियरिंग, चिकित्सा, शिक्षा, और कानून जैसे फील्ड में उच्च कोटि के हाई सैलरी वाली नौकरी पा सकते हैं।
  • ग्रेजुएशन करने के बाद आपको जो जॉब मिलती हैं उसकी सैलरी काफी उच्च कोटि की होती है। इस तरह से कह सकते हैं कि ग्रेजुएशन करने वाले लोगो की इनकम गैर-ग्रेजुएट लोगो की तुलना में अधिक होती है। यह भी एक बढ़िया ग्रेजुएशन करने के फायदे हैं।
  • ग्रेजुएशन करने वाले लोगो के पास जीवन में सफल होने की अधिक संभावना होती है। क्योंकि ग्रेजुएशन की पढ़ाई आपको आवश्यक कौशल और ज्ञान प्रदान करता है जो आपके जीवन के लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद करता है। यह भी एक बढ़िया ग्रेजुएशन करने के फायदे हैं।
  • ग्रेजुएशन करने के बाद आपको जो नौकरी मिलती है वह काफी उच्च कोटि की हाई सैलरी वाली होती है जिसकी वजह से हमेशा आपकी वित्तीय स्थिरता अच्छी रहती है।
  • ग्रेजुएशन का कोई भी कोर्स आसान नही होता है इसको करने में आपकी मेनहत और लगन दोनों लगती है। इसलिए यदि आप ग्रेजुएशन का कोई भी कोर्स सफलतापूर्वक कर लेते हैं तो इससे आपका आत्मविश्वास काफी बढ़ जाता है।
  • ग्रेजुएशन की पढ़ाई आपके ज्ञान में वृद्धि करती है और नए कौशल सीखने और विकसित करने का अवसर भी देती हैं। आप इनकी मदद से अपने करियर में और आगे बढ़ सकते हैं। यह भी एक बढ़िया ग्रेजुएशन करने के फायदे हैं।
  • जो विद्यार्थी ग्रेजुएशन की पढ़ाई सफलतापूर्वक कर लेते हैं उनको भारत के साथ साथ अन्य देशों में भी नौकरी के अवसर मिल सकते हैं। ग्रेजुएशन की डिग्री आपको अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जॉब पाने का मौका देती है।
  • भारत सरकार समय समय पर कई सारी सरकारी विभाग में अलग अलग पदों पर भर्ती निकालती रहती हैं। कोई भी ग्रेजुएशन पास विद्यार्थी इन पदों पर आवेदन करके एक उच्च कोटि की हाई सैलरी वाली सरकारी नौकरी पा सकता है। यह भी एक बढ़िया ग्रेजुएशन करने के फायदे हैं।
  • कई सारी प्राइवेट कंपनियां हैं जो ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरा करने वाले विद्यार्थियों को अलग अलग तरह की उच्च कोटि की जॉब ऑफर करती हैं। ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरा करने के बाद आप उन जॉब में आवेदन करके एक बढ़िया जॉब पा सकते हैं।
इसको भी पढ़े-   बैचलर डिग्री क्या है: बैचलर डिग्री के बारे में सबकुछ जाने

ग्रेजुएशन में कौन कौन से कोर्स आते हैं?

ग्रेजुएशन की पढ़ाई में बहुत सारे कोर्स आते हैं। कुछ महत्वपूर्ण और प्रसिद्ध कोर्स के नाम निम्नलिखित हैं।

  • बैचलर ऑफ आर्ट्स (B.A.)
  • बैचलर ऑफ कॉमर्स (B.COM)
  • बैचलर ऑफ साइंस (B.SC)
  • बैचलर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन (BCA)
  • बैचलर ऑफ लॉ (LLB)
  • बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी (B.Tech)
  • बैचलर ऑफ कंप्यूटर साइंस (BCS)
  • बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग (B.E.)
  • बैचलर ऑफ डेंटल सर्जरी (B.D.S)
  • बैचलर ऑफ एजुकेशन (B.Ed)
  • बैचलर ऑफ साइंस इन एग्रीकल्चर (B.Sc. Ag)
  • बैचलर ऑफ बिज़नेस एडमिनिस्ट्रेशन (BBA)
  • बैचलर ऑफ होम्योपैथिक मेडिसिन एंड सर्जरी (BHMS)
  • बैचलर ऑफ होटल मैनेजमेंट (BHM)
  • बैचलर ऑफ मॉस मीडिया (BMM)
  • बैचलर ऑफ बिज़नेस मैनेजमेंट (BBM)
  • बैचलर ऑफ टूरिज्म एडमिनिस्ट्रेशन (BTA)
  • बैचलर ऑफ फार्मेसी (B.Pharma)
  • बैचलर ऑफ हेल्थ केअर (B.H.Ed)
  • बैचलर ऑफ फिजिकल एजुकेशन (B.P.Ed)
  • बैचलर ऑफ हॉस्पिटैलिटी एंड टूरिस्ट मैनेजमेंट (BHTM)
  • बैचलर ऑफ मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नोलॉजी (BMLT)
  • बैचलर ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज ( BMS)

ग्रेजुएशन करने के लिए योग्यता?

हर एक ग्रेजुएशन कोर्स में एडमिशन लेने की योग्यता थोड़ा अलग अलग हो सकता है। ग्रेजुएशन करने के लिए कुछ सामान्य योग्यता निम्नलिखित हैं।

  • विद्यार्थी किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12वीं 50% से ज्यादा अंक के साथ पास होना चाहिए।
  • किसी भी ग्रेजुएशन कोर्स में एडमिशन लेने के लिए विद्यार्थी की आयु कम से कम 17 साल होना चाहिए।
  • किसी भी ग्रेजुएशन कोर्स में एडमिशन लेने के लिए विद्यार्थी शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ होना चाहिए।
  • कुछ ग्रेजुएशन कोर्स में एडमिशन डायरेक्ट मिल जाता है जबकि कुछ ग्रेजुएशन कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आपको प्रवेश परीक्षा देना पड़ता है।

ग्रेजुएशन में कितने सब्जेक्ट होते हैं?

हर एक ग्रेजुएशन कोर्स में सब्जेक्ट की संख्या अलग अलग होती है। आमतौर पर ग्रेजुएशन कोर्स में सब्जेक्ट की संख्या 3 से 6 तक होती है। अब ये आपके ऊपर निर्भर करता है कि आप कौन सा ग्रेजुएशन कोर्स करने के बारे में सोच रहें है। और आपकी रुचि किस तरह के ग्रेजुएशन कोर्स में है।

ग्रेजुएशन कितने साल का होता है?

भारत में ज्यादातर ग्रेजुएशन कोर्स की अवधि आमतौर पर 3 से 5 साल के बीच मे होती है। कुछ ग्रेजुएशन कोर्स 3 साल के होते हैं जबकि कुछ 4 साल के भी होते हैं इसके अलावा कुछ ग्रेजुएशन कोर्स की अवधि 5 साल भी होती है। अब ये आपके ऊपर निर्भर करता है कि 12वीं के बाद आप कौन सा ग्रेजुएशन कोर्स की पढ़ाई करने के बारे में सोच रहे हैं।

भारत में ग्रेजुएशन के लिए टॉप कॉलेज?

भारत में ग्रेजुएशन की पढ़ाई के लिए कई सारे कॉलेज मौजूद हैं। कुछ महत्वपूर्ण और टॉप कॉलेजो के नाम निम्नलिखित हैं।

  • भारतीय विज्ञान संस्थान, बेंगलुरु
  • जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू), नई दिल्ली
  • दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू), नई दिल्ली
  • भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, मद्रास , चेन्नई
  • भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, नई दिल्ली
  • बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू), वाराणसी
  • अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू), अलीगढ
  • मुंबई विश्वविद्यालय, मुंबई
  • सावित्रीबाई फुले पुणे विश्वविद्यालय, पुणे
  • कलकत्ता विश्वविद्यालय, कोलकाता
  • वेल्लोर यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी

ग्रेजुएशन के बाद आगे कौन सी पढ़ाई करें?

कोई भी ग्रेजुएशन की डिग्री लेने के बाद आगे पढ़ाई के कई सारे विकल्प मौजूद हैं। ग्रेजुएशन के बाद आगे पढ़ाई के कुछ महत्वपूर्ण विकल्प निम्नलिखित हैं।

इसको भी पढ़े-   रात को कितने बजे तक पढ़ना चाहिए: जानिये फायदे और नुकसान?

BA करने के बाद कौन सी नौकरी मिल सकती है?

BA करने के बाद आप निम्नलिखित नौकरियां पा सकते हैं!

  • शिक्षक
  • आईएएस
  • आईपीएस
  • बैंक पीओ
  • इनकम टैक्स ऑफिसर
  • स्टेनोग्राफर
  • लिपिक, क्लर्क
  • लोको पायलट
  • टिकट कलेक्टर
  • जूनियर इंजीनियर 
  • पत्रकार
  • लेखक
  • आरबीआई अधिकारी
  • आरबीआई कार्यालय सहायक
  • एसबीआई पीओ
  • एसबीआई क्लर्क
  • संपादक
  • शोधकर्ता
  • टैक्स असिस्टेंट
  • स्टेनोग्राफर
  • पुलिस
  • सामाजिक कार्यकर्ता
  • राजनेता
  • प्रशासनिक अधिकारी
  • बैंकिंग अधिकारी
  • विज्ञापन एजेंसी में कर्मचारी
  • संचार अधिकारी
  • ग्राफिक डिजाइनर
  • वेब डेवलपर
  • अंग्रेजी भाषा शिक्षक
  • विदेशी भाषा शिक्षक
  • पर्यटन अधिकारी
  • सहायक प्रबंधक

मेरा नाम सद्दाम हुसैन है और मैं इस ब्लॉग का फाउंडर और कंटेंट राइटर हूँ। इस ब्लॉग पर मैं एजुकेशन, सरकारी नौकरी, जॉब, कैरियर, बिजनेस, कोर्सेज और सेलेबस से रिलेटेड हर नई और महत्वपूर्ण लेख को रेगुलर बेसिक पर प्रकाशित करता रहता हूँ।

2 thoughts on “ग्रेजुएशन करने के क्या फायदे हैं: ग्रेजुएशन क्या होता है?”

Leave a Comment

error: Content is protected !!