LLM Course Details in Hindi: LLM क्या होता है? पूरी जानकारी

इस लेख की रूपरेखा:

भारत में बहुत से विद्यार्थी हैं जो कानून की पढाई करना चाहते है। यदि आप भी ऐसे विद्यार्थी हैं जो कानून की पढाई करके अपना एक बेहतरीन करियर बनाना चाहते हैं तो LLM कोर्स आपके लिए एक बेहतर विकल्प हो सकता है। LLM एक तरह से एक पोस्ट ग्रेजुएट की डिग्री होती है।

आज हम इस लेख में आपको LLM Course Details in Hindi के बारे में हर एक महत्वपूर्ण जानकारी को विस्तार से साझा करेगें। इस पूरे लेख को पढ़ने के बाद आपको LLM कोर्स के बारे में काफी अच्छी जानकारी हो जायेगी।

LLM कोर्स क्या है? | What is LLM Course in Hindi

LLM का मतलब “Master Of Laws” होता है। LLM एक उच्च स्तरीय पोस्ट ग्रेजुएट की डिग्री है। LLM कानून की पढाई के लिए एक बेस्ट कोर्स होता है। इस कोर्स में विद्यार्थियों को कानूनी रूल और रेगुलेशन के बारे में उच्च कोटि की शिक्षा प्रदान की जाती है।

LLM कोर्स की अवधि 2 साल होती है। इन 2 सालो में विद्यार्थियों को विधि विधान, राजनीति और न्यायशास्त्र, व्यावसायिक कानून, इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी लॉ और अंतर्राष्ट्रीय कानून के बारे में विस्तार से ज्ञान दिया जाता है।

LLM कोर्स करने के बाद विद्यार्थी कानूनी संस्थाओं, वकीलों, न्यायिक अधिकारियों और अन्य कानूनी क्षेत्र में उच्च कोटि का करियर बना सकता है।

LLM कोर्स उन विद्यार्थियों के लिए सबसे बेस्ट है जो पहले से कोई कानूनी शिक्षा प्राप्त कर चुके हैं और अपने कानूनी ज्ञान को और बेहतर बनाना चाहते हैं। इस कोर्स की पढ़ाई पूरा करने के बाद आप वकील के रूप में तहसील, डिस्ट्रिक्ट लेबल हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में अपना एक बढ़िया करियर बना सकते है।

LLM कोर्स क्यों करना चाहिये?

LLM कोर्स करने के कई सारे कारण है। इसके कुछ जरूरी कारणों को हम यहाँ शेयर कर रहे है। आप इन सभी कारणों को जानने के बाद इस कोर्स के लिए अपनी एक राय बना सकते है।

  • LLM कोर्स विद्यार्थियों को विभिन्न कानूनी विषयों में एक्सपर्ट बनाता है। इस कोर्स को करने के बाद विद्यार्थियों को कानूनी विषयों में काफी अच्छी समझ हो जाती है।
  • LLM कोर्स करने के बाद विद्यार्थी वकील, न्यायिक अधिकारी, कानूनी सलाहकार, और सरकारी कानूनी नौकरियों में उच्च कोटि का करियर बना सकते है।
  • LLM कोर्स करने के बाद विद्यार्थियों को विदेश में भी पढ़ाई करने का अवसर मिलता है। LLM कोर्स के बाद विद्यार्थी विदेशी विश्वविद्यालयों से कानूनी ज्ञान की पढ़ाई कर सकते है।।
  • LLM कोर्स करने के बाद आप गरीब और असहाय लोगो की कानूनी रूप से मदद करके समाज सेवा में भागीदार बन सकते हैं।
इसको भी पढ़े-   BHM Course Details in Hindi: BHM क्या होता है? पूरी जानकारी

LLM का फुल फॉर्म क्या होता है? | LLM Full Form in Hindi

LLM का Full Forum “Legum Magister” होते है जिसको हम मास्टर ऑफ़ लॉस भी कहते हैं। LLM एक क़ानून की पढ़ाई करने वाला कोर्स है। यह कोर्स आपके कानूनी ज्ञान को और अधिक बढ़ता है। LLM कोर्स विद्यार्थियों को नौकरी, समाज सेवा और विदेश में अध्ययन का अवसर प्रदान करता है।

LLM कोर्स कितने साल का होता है?

LLM कोर्स की अवधि आम तौर पर 2 साल होता है। इस 2 साल के कोर्स में विद्यार्थियों को विधि विधान, राजनीति और न्यायशास्त्र, व्यावसायिक कानून, आधारित विधि, इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी लॉ और अंतर्राष्ट्रीय कानून जैसे कई विषयों पर उच्च कोटि का अध्ययन करने का मौका मिलता है।

LLM कोर्स के लिए उम्र सीमा क्या होनी चाहिए?

LLM कोर्स में एडमिशन लेने के लिए विद्यार्थी की उम्र 30 साल से ज्यादा नही होनी चाहिए। इसके अलावा कुछ विशेष स्थितियों में आयु सीमा में छूट मिल सकती है। इसलिए LLM कोर्स में एडमिशन लेने पहले विश्वविद्यालय या संस्थान पर उम्र सीमा के बारे में अच्छी तरह से जानकारी जरूर हासिल कर लें।

LLM कोर्स करने के लिए योग्यता | LLM Course Eligibility in Hindi

LLM कोर्स में एडमिशन लेने के लिए छात्रों को कुछ योग्यता की जरूरत होती है। निम्नलिखित मानदंडों को पूरा करने वाले छात्रों को ही LLM कोर्स में प्रवेश मिल सकता है।

  • LLM कोर्स में एडमिशन लेने के लिए किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन की डिग्री होनी आवश्यक है।
  • LLM कोर्स में एडमिशन लेने के लिए विद्यार्थी की उम्र 30 साल से कम होनी चाहिए। 30 साल से ज्यादा उम्र होने पर एडमिसन लेने में दिक्कत हो सकती है।
  • LLM कोर्स में एडमिशन लेने के लिए विद्यार्थी को भारत का नागरिक होना चाहिए। यदि आप भारत के नागरिक नही है तो आपको एडमिसन लेने में दिक्कत हो सकती है।
  • भारत के कुछ कॉलेजो में LLM कोर्स में एडमिशन लेने के लिए ग्रेजुएशन में अच्छे अंक आना जरूरी होता है। ग्रेजुएशन में कम अंक होने पर एडमिसन नही मिलता है।
  • यदि अपने LLB किया है तो इस स्तिथी में आपको LLM कोर्स में डायरेक्ट एडमिसन मिल सकता है।
  • कुछ कॉलेजो में LLM कोर्स में एडमिसन लेने के लिए प्रवेश परीक्षा करवाया जाता है। प्रवेश परीक्षा पास करने के बाद ही वहाँ एडमिसन मिलता है।

LLM कोर्स की फीस कितनी होती है | LLM Course Fees

किसी भी कोर्स की फीस उसके कॉलेज और संस्थानों पर निर्भर करती है। LLM कोर्स की फीस सरकारी कॉलेजो में फीस थोड़ा कम होती है वही प्राइवेट कॉलेज में फीस ज्यादा होती है।

अगर बात करें LLM की औसत फीस की तो वह ₹50000 से ₹500000 प्रति साल तक हो सकती है। फीस के बारे में एकदम सटीक जानकारी आपको कॉलेज और संस्थानों के ऑफिसियल वेबसाइट पर मिल सकती हैं।

LLM Syllabus in Hindi | LLM कोर्स का पाठ्यक्रम?

हमने ऊपर पहले ही बताया है कि LLM कोर्स 2 साल का है। इन 2 सालो में विद्यार्थियों को 4 सेमेस्टर की पढ़ाई करवाई जाती है। हर एक सेमेस्टर 6 महीने का होता है। हर एक सेमेस्टर में क्या क्या पढ़ाया जाता हैं उसके बारे में हम यहाँ बताने जा रहे है।

सेमेस्टर- 1

  • कानूनी अनुसंधान और कार्यप्रणाली प्रथम
  • भारत में कानून और सामाजिक परिवर्तन
  • व्यवहारिक प्रशिक्षण
  • संविधानवाद
  • न्यायशास्त्र

सेमेस्टर- 2

  • कानूनी अनुसंधान और कार्यप्रणाली द्वितीय
  • विशेषज्ञता ऐच्छिक प्रथम
  • प्रशासनिक कानून
  • कानून और प्रौद्योगिकी
  • वित्त कानून
  • अपराध का कानून
इसको भी पढ़े-   CCH Course Details in Hindi: CCH कोर्स क्या है? पूरी जानकारी

सेमेस्टर- 3

  • विशेषज्ञता ऐच्छिक द्वितीय
  • विशेषाधिकार प्राप्त वर्ग विचलन
  • अंतर्राष्ट्रीय व्यापार कानून
  • सार्वजनिक उपयोगिता कानून
  • संचार मीडिया कानून

सेमेस्टर- 4

  • विशेषज्ञता ऐच्छिक चतुर्थ
  • विशेषज्ञता ऐच्छिक तृतीय
  • रिपोर्ट कार्य और प्रकाशन
  • क्षेत्र कार्य
  • निबंध

LLM कोर्स के लिए भारत के बेस्ट कॉलेज?

भारत मे बहुत से कॉलेज हैं जहाँ से आप LLM की उच्च कोटि की शिक्षा ले सकते है। यहाँ हम आपके साथ भारत में LLM कोर्स के लिए कुछ बेस्ट कॉलेजो की सूची को शेयर कर रहे है। इन सभी कॉलेजो में विद्यार्थियों को LLM की उच्च कोटि की शिक्षा प्रदान की जाती है।

  • नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, दिल्ली
  • नौसेना भारतीय विश्वविद्यालय, मुंबई
  • नेशनल लॉ स्कूल ऑफ इंडिया यूनिवर्सिटी, बंगलुरु
  • नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, जोधपुर
  • भारतीय विदेशी विद्यापीठ, पुणे
  • नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, भोपाल
  • नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, ओडिशा
  • बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, वाराणसी
  • जामिया मिलिया इस्लामिया, दिल्ली
  • चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी मेरठ
  • एमिटी लॉज़ यूनिवर्सिटी नॉएडा
  • अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी अलीगढ
  • फैकल्टी ऑफ़ लॉ यूनिवर्सिटी ऑफ़ इलाहाबाद इलाहाबाद
  • फैकल्टी ऑफ़ लॉ बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी वाराणसी
  • फैकल्टी ऑफ़ लॉ यूनिवर्सिटी ऑफ़ दिल्ली दिल्ली
  • नलसर यूनिवर्सिटी ऑफ़ लॉ हैदराबाद हैदराबाद
  • महाराष्ट्र नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी मुम्बई
  • जामिआ मिलिया इस्लामिआ न्यू दिल्ली
  • गुजरात नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी गांधीनगर

LLM कोर्स करने के फायदे | LLM Course Karne Ke Fayde

LLM कोर्स करने के कई बेहतरीन फायदे होते है। इसके कुछ महत्वपूर्ण फायदे को हम यहाँ शेयर कर रहे है। उम्मीद है ये जानकारी आपको पसंद आयेगी।

  • LLM कोर्स विद्यार्थियों को कानूनी विषयों में एक्सपर्ट बना देता है। जिसकी वजह से विद्यार्थी नैतिक और न्यायिक मुद्दों में अधिक समझदार हो जाते हैं।
  • LLM कोर्स के पूरा होने से विद्यार्थियों को अधिकांश अंकों के साथ करियर विकसित करने में मदद मिलती है। LLM कोर्स के बाद विद्यार्थियों को उच्चतम स्तर के पद प्राप्त करने में मदद मिलती है।
  • LLM कोर्स पूरा करने के बाद विद्यार्थियों को विदेश में भी पढ़ाई करने का मौका मिलता है। विदेशो में उन्हें अन्तर्राष्ट्रीय कानून का अध्ययन करने का मौका मिलता है।
  • LLM कोर्स पूरा करने के बाद विद्यार्थी कानूनी तत्वों के माध्यम से समाज को समृद्धि और न्याय का प्रदान करने में अपना एक अहम योगदान दे सकते है।
  • LLM कोर्स के माध्यम से विद्यार्थियों को विदेशी भाषा और संस्कृति की पढ़ाई करने का मौका मिलता है। LLM कोर्स करने का यह भी एक महत्वपूर्ण फायदा है।
  • LLM कोर्स विद्यार्थियों के आत्मविश्वास को बढ़ाता है। आत्मविश्वास बढ़ने की वजह से विद्यार्थियों को कानूनी मुद्दों को समझने और समाधान करने में मदद मिलती है।
  • LLM कोर्स करने के बाद विद्यार्थी विभिन्न न्यायिक और सामाजिक संगठनों से जुड़ सकते है। यह चीज़े उनके करियर को आगे ले जाने में काफी मदद करती है।

LLM कोर्स के बाद कौन कौन सी नौकरी मिल सकती है?

LLM कोर्स को पूरा करने के बाद आपको सरकारी और प्राइवेट दोनों विभाग में उच्च कोटि की हाई सैलरी वाली नौकरी मिल सकती हैं। यहाँ हम आपके साथ LLM कोर्स के बाद मिलने वाले कुछ महत्वपूर्ण सरकारी और प्राइवेट नौकरियों को शेयर कर रहे है।

LLM के बाद सरकारी नौकरियां:

  • वकील
  • सीनियर वकील
  • सिविल सेवा
  • न्यायाधीश
  • विश्वविद्यालय में अध्यापक
  • सलाहकार
  • न्यायिक सेवा
  • भारतीय जन सेवा
  • भारतीय पुलिस सेवा

LLM के बाद प्राइवेट नौकरियां:

  • वकील
  • सलाहकार
  • बैंकिंग और फाइनेंस में जॉब
  • कम्युनिकेशन इंडस्ट्री में जॉब
  • मीडिया में जॉब

LLM कोर्स के बाद कितनी सैलरी मिलती है?

किसी भी जॉब की सैलरी विभिन्न कारणों पर निर्भर करती है, जैसे कि आपके क्षेत्र में काम करने की स्थिति, अनुभव की अवधि और कंपनी का स्तर उनमे से मुख्य है।

अगर बात करें LLM कोर्स बाद मिलने वाली एक औसत सैलरी की तो वह ₹40000 से ₹50000 प्रति महीना तक हो सकती है। वही यदि आप एक वकील के रूप में जॉब करते हैं तब आपकी सैलरी ₹30000 से ₹45000 प्रति महीना तक हो सकता है।

वही LLM कोर्स के बाद यदि आप एक जज के रूप में काम करते हैं तब आपकी सैलरी ₹60000 से ₹100000 प्रति महीना तक हो सकता है। समय के साथ साथ अनुभव होने पर यह सैलरी और अधिक हो जाती हैं।

इसको भी पढ़े-   DMLT Course Details: डीएमएलटी क्या होता है? सम्पूर्ण जानकारी

LLM कोर्स करने के बाद आगे क्या क्या कर सकते हैं?

LLM कोर्स करने के बाद आगे विद्यार्थी के पास कई विकल्प होते हैं। यहाँ हम आपके साथ कुछ महत्वपूर्ण विकल्पों को शेयर कर रहे है। उम्मीद है कि आपको ये जानकारी पसंद आयेगी।

वकील बन सकते हैं: LLM कोर्स करने के बाद आगे विद्यार्थी वकील के रूप में अपना करियर शुरू कर सकते हैं। LLM कोर्स करने के बाद यह एक बढ़िया विकल्प होता है।

न्यायिक अधिकारी बन सकते हैं: यह भी एक बढ़िया विकल्प है। LLM कोर्स करने के बाद आगे विद्यार्थी न्यायिक अधिकारी बनकर अपना एक बढ़िया करियर शुरू कर सकते है।

शिक्षक बन सकते हैं: LLM करने के बाद विद्यार्थी शिक्षा के क्षेत्र में अपना करियर बना सकते हैं। वह एक शिक्षक के रूप में कानूनी विषयों पर विद्यार्थियों को शिक्षा प्रदान कर सकते हैं।

लीगल एडवाइजर बन सकते हैं: LLM करने के बाद विद्यार्थी निजी कंपनियों और संस्थानों में लीगल एडवाइजर के रूप अपना करियर शुरू कर सकते हैं। यह भी LLM के बाद एक बढ़िया विकल्प है।

सरकारी नौकरी ले सकते है: भारत सरकार समय समय पर कानूनी विभागों और न्यायालयों में सरकारी पदो पर भर्ती निकालती रहती है। LLM करने के बाद आप इन पदों में आवेदन करके अपने लिए एक बढ़िया सरकारी नौकरी ले सकते है।

LLM के बाद ऊपर बताये गए सभी विकल्पों में से आप अपनी रुचि और योग्यता के अनुसार किसी एक का चुनाव कर सकते हैं। LLM कोर्स करने के बाद ये सभी विकल्प काफी अच्छे हैं।

निष्कर्ष:

LLM एक प्रतिष्ठित पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स है। जिसको करने के बाद विद्यार्थियों के सामने करियर बनाने के कई सारे अवसर खुल जाते हैं। LLM करने के बाद आप वकील, न्यायिक अधिकारी, लीगल एडवाइजर, साक्षात्कारी, शिक्षक और सरकारी नौकरी जैसे कई सारे जगह पर अपना करियर बना सकते हैं।

मैं आशा करता हूँ कि इस पूरे आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको LLM Course Details in Hindi के बारे में काफी बढ़िया जानकारी हो गई होगी।

यदि आपको यह आर्टिकल सच में पसंद आया हो तो इसको फेसबुक, व्हाट्सअप और इंस्टाग्राम पर अपने मित्रों के साथ जरूर शेयर करें।

LLM Course के बारे में यदि आपका कोई सवाल हो तो आप कमेंट के माध्यम से पूछ सकते हैं। हम आपके सवाल का जबाब जल्द से जल्द देगें।

LLM Course Details in Hindi के बारे में सामान्य प्रश्न?

भारत में LLM कितने साल का है?

भारत में LLM कोर्स का अवधि आमतौर पर 2 साल होता है। कुछ कॉलेज और संस्थाओं में LLM कोर्स का अवधि 1 साल भी होती है।

क्या मैं LLB के बिना LLM कर सकता हूं?

नही! आप LLB के बिना LLM नही कर सकते हैं। LLM एक पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स होता है। जिसको करने के लिए आपको पहले LLB कोर्स को पूरा करना होगा।

LLM कोर्स के विषय क्या होते हैं?

LLM कोर्स में मुख्य रूप से कानूनी विषयों पर अध्ययन किया जाता है। इसके मुख्य विषय समान्य विधि, संपत्ति विधि, राजनीतिक विधि, अंतरराष्ट्रीय कानून और व्यावसायिक कानून जैसे होते हैं।

LLM कोर्स की फीस क्या होती है?

LLM कोर्स की औसत फीस ₹50000 से ₹500000 प्रति साल तक हो सकती हैं। सरकारी कॉलेजो के मुकाबले प्राइवेट कॉलेज में फीस बहुत ज्यादा होती हैं।

मेरा नाम सद्दाम हुसैन है और मैं इस ब्लॉग का फाउंडर और कंटेंट राइटर हूँ। इस ब्लॉग पर मैं एजुकेशन, सरकारी नौकरी, जॉब, कैरियर, बिजनेस, कोर्सेज और सेलेबस से रिलेटेड हर नई और महत्वपूर्ण लेख को रेगुलर बेसिक पर प्रकाशित करता रहता हूँ।

5 thoughts on “LLM Course Details in Hindi: LLM क्या होता है? पूरी जानकारी”

Leave a Comment

error: Content is protected !!