B.Com Course Details: बीकॉम क्या होता है? पूरी जानकारी

इस लेख की रूपरेखा:

यदि आप 12वीं के बाद बैंकिंग, फाइनेंस और बिजनेस के फील्ड में अपना एक उच्च कोटि का कैरियर बनाना चाहते हैं तो बीकॉम कोर्स आपके लिए एक बढ़िया विकल्प हो सकता है। कोई भी 12वीं कॉमर्स स्ट्रीम से पास विद्यार्थी बीकॉम कोर्स आसानी से कर सकता है।

B.Com Course Details in Hindi के इस लेख में हम आपको बीकॉम क्या होता है, बीकॉम कोर्स के लिए योग्यता, बीकॉम कोर्स की फीस, बीकॉम कोर्स के बाद जॉब और सैलरी जैसी कई महत्वपूर्ण चीज़ों के बारे में विस्तार से बतायेगें। तो चलिए शुरू करते हैं।

बीकॉम क्या होता है | B.Com Course Details in Hindi

बीकॉम (B.Com) का मतलब “बैचलर ऑफ कॉमर्स” होता है। बीकॉम एक 3 साल का ग्रेजुएशन कोर्स है जिसको विद्यार्थी 12वीं कॉमर्स स्ट्रीम से पढ़ाई करने के बाद करना पसंद करते हैं।

बीकॉम कोर्स में विद्यार्थियों को एकाउंटिंग, बैंकिंग, फाइनेंस, मार्केटिंग, अर्थशास्त्र, इनकम, टैक्स और बिजनेस जैसी चीजों के बारे में विस्तार से पढ़ाया जाता है।

बीकॉम कोर्स सफलतापूर्वक करने के बाद विद्यार्थियों को एक बैचलर डिग्री मिलती है। बीकॉम कोर्स के इस बैचलर डिग्री की मदद से आप कई सारी सरकारी और प्राइवेट विभाग में उच्च कोटि की हाई सैलरी वाली नौकरियां पा सकते हैं।

बीकॉम कोर्स सफलतापूर्वक करने के बाद आप टैक्स सलाहकार, अकाउंट मैनेजर, बजट विश्लेषक, वित्तीय सलाहकार, बैंक क्लर्क अकाउंटेंट, कंपनी सेक्रेटरी और स्टॉक ब्रोकर जैसी उच्च कोटि की हाई सैलरी वाली जॉब पा सकते हैं। इसके अलावा आप अपना कोई बिजनेस या स्टार्टअप भी शुरू कर सकते हैं।

बीकॉम का फुल फॉर्म क्या होता है | B.Com Full Form in Hindi

बीकॉम ( B.Com ) का फुल फॉर्म “बैचलर ऑफ कॉमर्स” (Bachelor of Commerce) होता है। बीकॉम एक बेहतरीन और उच्च कोटि का ग्रेजुएशन कोर्स है जिसको विद्यार्थी 12वीं कॉमर्स स्ट्रीम की पढ़ाई पूरा करने के बाद करते हैं। बीकॉम की पढ़ाई पूरा करने के बाद आप कई सारी सरकारी और प्राइवेट विभाग में उच्च पदों पर हाई सैलरी वाली नौकरी पा सकते हैं।

बीकॉम कोर्स कितने प्रकार के होते हैं?

बीकॉम कोर्स आमतौर पर 2 प्रकार के होते हैं जिसमे पहला बैचलर ऑफ कॉमर्स (ऑनर्स) होता है। बैचलर ऑफ कॉमर्स (ऑनर्स) में विद्यार्थियों को लेखांकन, वित्त, अर्थशास्त्र, व्यवसाय कानून, कराधान, बीमा, और मैनजमेंट के बारे में उच्च स्तर का ज्ञान प्रदान किया जाता है।

बीकॉम का दूसरा प्रकार बैचलर ऑफ कॉमर्स (जनरल) होता है। इस कोर्स की भी अवधि 3 साल की होती है। बैचलर ऑफ कॉमर्स (जनरल) में विद्यार्थियों को सभी प्रमुख वाणिज्य विषयों का ज्ञान प्रदान किया जाता है।

बीकॉम कोर्स का सेलेबस क्या होता है | B.Com Course Syllabus in Hindi

बीकॉम कोर्स आमतौर पर 3 साल का होता है। हर साल इसमे क्या क्या पढ़ाया जाता है उसके बारे में आपको बताने जा रहा हूँ। इसको जानने के बाद आपको B.Com Course Syllabus in Hindi के बारे में अच्छी जानकारी हो जायेगी।

इसको भी पढ़े-   ADCA Course Details: ADCA कोर्स क्या होता है? पूरी जानकारी?

B.Com 1st Year Subject:

  • पर्यावरण अध्ययन
  • बिज़नेस लॉ
  • फाइनेंसियल एकाउंटिंग
  • अंग्रेजी/हिंदी/आधुनिक भारतीय भाषा
  • बिज़नेस आर्गेनाईजेशन और मैनेजमेंट
  • बिज़नेस मैथमेटिक्स और सांख्यिकी
  • अंग्रेजी भाषा
  • हिंदी/आधुनिक भारतीय भाषा

B.Com 2nd Year Subject:

  • कंपनी लॉ
  • बिज़नेस कम्युनिकेशन
  • इनकम टैक्स लॉ और प्रैक्टिस
  • कॉर्पोरेट एकाउंटिंग
  • हिंदी/आधुनिक भारतीय भाषा
  • कॉस्ट एकाउंटिंग
  • कंप्यूटर एप्लीकेशन इन बिज़नेस
  • ई-कॉमर्स

B.Com 3rd Year Subject:

  • ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट
  • कॉर्पोरेट टैक्स प्लानिंग
  • प्रिंसिपल्स ऑफ मार्केटिंग
  • बैंकिंग और कॉर्पोरेट गवर्नेंस
  • मैनेजमेंट एकाउंटिंग
  • फंडामेंटल्स ऑफ फाइनेंसियल मैनेजमेंट
  • कंप्यूटेरिसेड एकाउंटिंग सिस्टम
  • इनडाइरेक्ट टैक्स लॉ
  • इंटरनेशनल बिज़नेस
  • उद्यमशीलता
  • ऑफिस मैनेजमेंट और सेक्रेटेरियल प्रैक्टिस
  • प्रिंसिपल्स ऑफ माइक्रो इकोनॉमिक्स
  • फंडामेंटल्स ऑफ इन्वेस्टमेंट
  • उपभोक्ता संरक्षण
  • व्यक्तिगत बिक्री और विक्रय कौशल
  • भारतीय अर्थव्यवस्था

बीकॉम कोर्स में कितने सब्जेक्ट होते हैं?

बीकॉम कोर्स में कई सारे सब्जेक्ट होते हैं। कुछ महत्वपूर्ण सब्जेक्ट के नाम निम्नलिखित हैं।

  • पर्यावरण अध्ययन
  • अर्थशास्त्र
  • वित्तीय लेखांकन
  • कंप्यूटर एप्लीकेशन और आईटी
  • गणित/कंप्यूटर
  • व्यापारिक संगठन और प्रबंधन
  • अंग्रेजी भाषा
  • व्यापार कानून
  • वित्तीय प्रणाली
  • पर्यावरण अध्ययन
  • सामाजिक संचार
  • वित्तीय प्रणाली
  • वित्तीय बाज़ार और संस्थाएँ
  • बैंकिंग और बीमा
  • आयकर कानून
  • भारतीय अर्थव्यवस्था
  • कॉर्पोरेट लेखा-I
  • सूक्ष्म अर्थशास्त्र-I
  • कॉर्पोरेट अकाउंटिंग-II
  • श्रम लागत लेखांकन की मूल बातें
  • प्रबंधकीय संचार
  • कंपनी कानून के तत्व
  • भारतीय बैंकिंग प्रणाली और केंद्रीय बैंकिंग
  • ओवरहेड्स एसपीएल
  • लागत लेखांकन
  • बैंकिंग एवं वित्तीय प्रणालियाँ
  • विपणन प्रबंधन
  • आयकर
  • उद्यमशीलता
  • कूटनीतिक प्रबंधन
  • एडवांस अकाउंटिंग पेपर 2
  • प्रबंधन और सूचना प्रणाली
  • समसामयिक भारतीय अर्थशास्त्र मुद्दे एवं नीतियाँ
  • व्यापारिक कानून- II
  • विपणन प्रबंधन
  • लेखापरीक्षा के सिद्धांत
  • अंतर्राष्ट्रीय व्यापार
  • प्रबंधन लेखांकन
  • कॉर्पोरेट कर योजना

बीकॉम कोर्स के लिए योग्यता?

बीकॉम कोर्स में एडमिशन लेने के लिए निम्नलिखित योग्यता की जरूरत होती है।

  • बीकॉम कोर्स में एडमिशन लेने के लिए विद्यार्थी भारत के किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12वीं कॉमर्स स्ट्रीम से पास होना चाहिए।
  • विद्यार्थी का 12वीं कॉमर्स स्ट्रीम में कम से कम 50% से ज्यादा अंक रहना चाहिए।
  • बीकॉम कोर्स में एडमिशन लेने के लिए विद्यार्थी को इंग्लिश और गणित विषय मे अच्छी पकड़ होनी चाहिए।
  • बीकॉम कोर्स में एडमिशन लेने के लिए विद्यार्थी की उम्र 17 साल से ज्यादा होनी चाहिए।
  • कुछ कॉलेजो में बीकॉम कोर्स में एडमिशन लेने के लिए प्रवेश परीक्षा पास करना पड़ता है। जबकि कुछ कॉलेजो में डायरेक्ट प्रवेश मिल जाता है।

बीकॉम कोर्स कैसे करे?

आप निम्नलिखित चरणों का पालन करके बीकॉम कोर्स आसानी से कर सकते हैं।

  • बीकॉम कोर्स में एडमिशन लेने के लिए सबसे पहले आपको किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से कॉमर्स स्ट्रीम में 12वीं पास करना होगा। इसके साथ साथ आपकी 12वीं क्लास में 50% से ज्यादा अंक भी रहना चाहिए।
  • कॉमर्स स्ट्रीम से 12वीं पास करने के बाद आपको बीकॉम कोर्स के लिए एक बढ़िया कॉलेज का चुनाव करना होगा। आप अपनी सिटी में जाकर एक बढ़िया कॉलेज का चुनाव कर सकते हैं। इसके अलावा आप एक बढ़िया कॉलेज का चुनाव करने के लिए इंटरनेट की भी मदद ले सकते हैं।
  • एक सही और बढ़िया कॉलेज का चुनाव करने के बाद आपको उस कॉलेज के कैंपस में जाकर बीकॉम कोर्स की प्रवेश प्रक्रिया, फीस और अन्य जरूरी चीजों के बारे में अच्छे से जानकारी लेनी होगी।
  • कुछ कॉलेजो में बीकॉम कोर्स में प्रवेश लेने के लिए प्रवेश परीक्षा देना पड़ता है जबकि कुछ कॉलेजो में डायरेक्ट एडमिशन मिल जाता है। आप अपने चुने हुए कॉलेज में जाकर इसके बारे में जानकारी ले सकते हैं।
  • अब आपको अपने कॉलेज में जाकर एक आवेदन फॉर्म लेना होगा। आवेदन फॉर्म लेने के बाद उनको सही सही भरकर महत्वपूर्ण दस्तावेजों की फ़ोटो कॉपी के साथ कॉलेज में जाकर जमा कर दें।
  • आवेदन फॉर्म भरकर जमा करने के बाद यदि आपका आवेदन स्वीकार कर लिया जाता है तो उसके बाद आपको प्रवेश शुल्क जमा करना होता है। प्रवेश शुल्क जमा करने के बाद आपका एडमिशन उस कॉलेज में हो जाता है। और आप उस कॉलेज में जाकर क्लास अटेंड करने के योग्य हो जाते हैं।
इसको भी पढ़े-   NTT Course Details in Hindi: एनटीटी क्या होता है? सबकुछ जाने

बीकॉम कोर्स में एडमिशन लेने के लिए क्या क्या डाक्यूमेंट्स चाहिए।

बीकॉम कोर्स में एडमिशन लेने के लिए निम्नलिखित डाक्यूमेंट्स की जरूरत पड़ती है।

बीकॉम कोर्स कितने समय का होता है?

भारत मे बीकॉम कोर्स की अवधि आमतौर पर 3 साल का होता है। सफलतापूर्वक 3 साल का बीकॉम कोर्स करने के बाद आपको एक बीकॉम की डिग्री मिलती है। इस डिग्री की मदद से आप कई सारे सरकारी और प्राइवेट विभाग में उच्च कोटि की नौकरी प्राप्त कर सकते हैं।

बीकॉम कोर्स करने के फायदे | B.Com Course Karne Ke Fayde

बीकॉम कोर्स करने के फायदे बहुत सारे हैं कुछ महत्वपूर्ण फायदे निम्नलिखित हैं।

  • बीकॉम कोर्स करने के बाद आपको अर्थशास्त्र, एकाउंटिंग, फाइनेंस, बिज़नेस लॉ, मार्केटिंग और मैनेजमेंट जैसी चीजों के बारे में उच्च कोटि का ज्ञान और कौशल प्राप्त होता है।
  • बीकॉम कोर्स की पढ़ाई पूरा करने के बाद आपको बैंकिंग, वित्त, मार्केटिंग, अंतरराष्ट्रीय व्यापार, सूचना प्रौद्योगिकी, होटल मैनेजमेंट, फाइनेंशियल इंजीनियरिंग और क्रिमिनल जस्टिस जैसी फील्ड में उच्च कोटि की हाई सैलरी वाली जॉब मिल सकती है।
  • बीकॉम कोर्स की पढ़ाई करने का सबसे बड़ा फायदा ये भी है कि इसके बाद आप अपना खुद का व्यवसाय भी शुरू कर सकते हैं क्योंकि बीकॉम कोर्स में व्यवसाय के बारे में भी उच्च कोटि का ज्ञान प्रदान किया जाता है।
  • बीकॉम कोर्स करने से आपकी कम्युनिकेशन स्किल और पर्सनालिटी में काफी सुधार होता है। ये भी एक बढ़िया बीकॉम कोर्स करने के फायदे हैं।
  • बीकॉम कोर्स करने बाद आपको जो डिग्री मिलती है उसका डिमांड बहुत ज्यादा रहता है। उस डिग्री की मदद से आप कई तरह की उच्च कोटि की नौकरियां पा सकते हैं। ये भी एक बढ़िया बीकॉम कोर्स करने के फायदे हैं।
  • बैंकिंग फील्ड में बीकॉम कोर्स करने वाले विद्यार्थियों का काफी डिमांड रहता है। बीकॉम कोर्स करके आप बैंक में भी जॉब पा सकते हैं।
  • बीकॉम कोर्स करने के बाद आपको जो जॉब मिलता है उसकी सैलरी भी काफी उच्च कोटि की होती है। ये भी एक बढ़िया बीकॉम कोर्स करने के फायदे हैं।

बीकॉम कोर्स के लिए सबसे बेस्ट कॉलेज?

भारत मे कई सारे कॉलेज हैं जहाँ से आप बीकॉम कोर्स कर सकते हैं। कुछ महत्वपूर्ण और टॉप कॉलेजो के नाम निम्नलिखित हैं।

  • श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स, नई दिल्ली
  • हिंदू कॉलेज, नई दिल्ली
  • हंसराज कॉलेज, नई दिल्ली
  • लेडी श्रीराम कॉलेज फॉर विमेन्स, नई दिल्ली
  • किरोड़ीमल कॉलेज, नई दिल्ली
  • स्कूल ऑफ फाइनेंस एंड अकाउंटेंसी, क्राइस्ट, बेंगलुरु
  • बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय, लखनऊ
  • श्री राम मूर्ति स्मारक इंटरनेशनल बिजनेस स्कूल, लखनऊ
  • कोलकाता के सेंट जेवियर्स कॉलेज
  • नरसी मोंजी कॉलेज ऑफ कॉमर्स एंड इकोनॉमिक्स, मुंबई
  • मद्रास क्रिश्चयन कॉलेज, चेन्नई
  • श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स, न्यू दिल्ली
  • लोयोला कॉलेज, चेन्नई
  • जैन यूनिवर्सिटी, बेंगलुरू
  • एन आई एम एस यूनिवर्सिटी, जयपुर
  • यूनिवर्सिटी ऑफ राजस्थान, जयपुर
  • बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय
  • दिल्ली यूनिवर्सिटी
  • पंजाब यूनिवर्सिटी
  • अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी

बीकॉम कोर्स की फीस कितनी होती है | B.Com Course Fees

सरकारी कॉलेज में बीकॉम कोर्स की औसतन फीस ₹5000- ₹20000 प्रति साल तक हो सकती हैं। वही प्राइवेट कॉलेज में बीकॉम कोर्स की औसतन फीस ₹20000- ₹50000 प्रति साल तक हो सकता है। याद रहे यह एक अनुमानित फीस है। बीकॉम कोर्स की फीस के बारे में आपको एकदम सटीक जानकारी कॉलेज के कैंपस में जाकर मिल सकती है।

बीकॉम कोर्स करने के बाद कौन कौन सी नौकरी मिलती है?

बीकॉम कोर्स करने के बाद आपको कई तरह के पदों पर नौकरी मिल सकती है। कुछ महत्वपूर्ण नौकरियों के नाम निम्नलिखित हैं।

  • अकाउंटेंट
  • फाइनेंस ऑफिसर
  • टैक्स सलाहकार
  • क्रेडिट विश्लेषक
  • मार्केटिंग मैनेजर
  • सेल्स मैनेजर
  • मार्केटिंग रिसर्चर
  • आयात-निर्यात अधिकारी
  • व्यापार विश्लेषक
  • विदेशी मुद्रा व्यापारी
  • आईटी प्रोग्रामर
  • सिस्टम एनालिस्ट
  • इकोनॉमिस्ट
  • ऑडिटर
  • डेटा विश्लेषक
  • बिजनेस प्लानर
  • होटल मैनेजर
  • फ़ूड सर्विस मैनेजर
  • हाउसकीपिंग मैनेजर
  • फाइनेंशियल इंजीनियर
  • क्रिमिनल जस्टिस ऑफिसर
  • कानूनी सलाहकार
  • इंडियन रेलवे में नौकरी
  • इंडियन नेवी में नौकरी
  • सिविल सर्विस में नौकरी
  • इंडियन आर्मी में नौकरी
  • इंडियन एयरफोर्स में नौकरी
  • आरबीआई अधिकारी
  • एसबीआई पीओ
  • एसबीआई क्लर्क
इसको भी पढ़े-   CCH Course Details in Hindi: CCH कोर्स क्या है? पूरी जानकारी

बीकॉम कोर्स करने के बाद कितनी सैलरी मिलती है।

बीकॉम कोर्स करने के बाद सैलरी आपके जॉब के प्रकार, पद और आपके अनुभव पर निर्भर करता है। अगर बात करें बीकॉम कोर्स करने के बाद मिलने वाले जॉब की एक औसतन शुरुआती सैलरी की तो वह ₹20000- ₹35000 प्रति महीना तक हो सकती है। समय के साथ साथ अनुभव होने पर यह सैलरी ₹100000 प्रति महीना तक हो सकती है।

बीकॉम कोर्स करने के बाद आगे कौनसी पढ़ाई कर सकते हैं?

बीकॉम कोर्स करने के बाद आगे पढ़ाई के कई सारे विकल्प मौजूद हैं कुछ महत्वपूर्ण विकल्प निम्नलिखित हैं।

निष्कर्ष?

बीकॉम एक लोकप्रिय कोर्स है जिनको विद्यार्थियों 12वीं के बाद करके अपना एक सफल करियर बना सकते हैं। यदि आपको फाइनेंस, मैनेजमेंट, बिज़नेस और मार्केटिंग जैसी फील्ड में करियर बनाना है तो बीकॉम कोर्स आपके लिए एक बेहतरीन विकल्प हो सकता है।

B.Com Course Details in Hindi के इस लेख को पूरा पढ़ने के बाद आपको बीकॉम क्या होता, बीकॉम कोर्स की योग्यता, बीकॉम कोर्स की फीस, बीकॉम कोर्स के बाद जॉब और सैलरी जैसी कई महत्वपूर्ण चीज़ों के बारे में उच्च कोटि का ज्ञान हो गया होगा।

यदि आपका बीकॉम कोर्स को लेकर कोई सवाल या सुझाव हो तो कमेंट के माध्यम से बता सकते हैं। हम आपके सवाल या सुझाव का जबाब जल्द से जल्द देने की कोशिश करेगें।

यदि आपको इस लेख के माध्यम से कुछ नया जानने या सीखने को मिला हो तो इस लेख को अपने मित्रों के साथ शेयर करना ना भूलें। इस पूरे लेख को पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

मेरा नाम सद्दाम हुसैन है और मैं इस ब्लॉग का फाउंडर और कंटेंट राइटर हूँ। इस ब्लॉग पर मैं एजुकेशन, सरकारी नौकरी, जॉब, कैरियर, बिजनेस, कोर्सेज और सेलेबस से रिलेटेड हर नई और महत्वपूर्ण लेख को रेगुलर बेसिक पर प्रकाशित करता रहता हूँ।

Leave a Comment

error: Content is protected !!